सफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे – राहत इन्दौरी

5 / 5 ( 2 votes ) सफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे, चले चलो कि जहाँ तक ये आसमान रहे. ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल, मज़ा तो तब है कि पैरों में कुछ थकान रहे. वो शख्स मुझ को कोई जालसाज़ लगता है, तुम उसको दोस्त समझते …

Full Shayariसफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे – राहत इन्दौरी

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai — Poem by Gulzar Sahab

4.6 / 5 ( 5 votes ) Saans lena bhi kaisi aadat hai, jiye jaana bhi kya rawaayat hai.. Koi aahat nahin hai badan mein kahin, koi saaya nahin hai aankhon mein.. Paaon be-hiss hain chalte rehte hain, ek safar hai jo behta rehta hai.. Kitne barson se, kitni sadiyon se, Jiye jaate hain.. Jiye …

Full ShayariSaans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai — Poem by Gulzar Sahab