Ada Jafri Poetry/ Shayari /Ghazals | अदा जाफ़री की शायरी

Ada Jafri Poetry / Ghazals Collection

 ada jafriAziz Jahan (1924-2015), who started composing verse at an early age with the pen name of Ada Badayuni, came to acquire the name of Ada Jafri after her marriage to Nurul Hasan Jafri. She was born in a traditional household in Badayun where she received her early education and also passed the Matriculation examination as a private candidate. She got counselling on her poetry from Jafar Ali Khan and Akhtar Sheerani in whose journal called Rooman she published her first ghazal in 1954. Following partition, she migrated to Pakistan and settled in Karachi. 

Ada Jafri is rightly claimed to be the first female voice of substance in modern Urdu poetry. Celebrated essentially for her ghazals written in a romanticist tradition, she expressed the female persona with remarkable confidence which later found its stronger manifestations in other women poets of Pakistan. Her collections of poetry include Main Saaz Dhooondhati Rahi, Shahr-e-Dard, Ghazalan Tum to Waqif Ho, Saaz-e-Sukhan Bahana Hai, Harf-e-Shanasaayi, and Mausam Mausam. Her Kulliyat that contains her complete poetical works also includes a new collection Safar Baqi Hai. She also edited Ghazal Numa, a collection of select Urdu ghazals with brief introductions to the poets since the very beginning to the present times. She also penned her autobiography known as Jo Rahi So Bekhabari Rahi. Ada Jafarey has been a recipient of prestigious awards from several important organisations some of which include the Hamdard Foundations of India and Pakistan, Pakistan Writers Guild, and Pakistan Academy of Letters. The Government of Pakistan awarded her the prestigious award of Pride of Performance. 

Read all her Poetry collection on Gulzariyat.com

SN Ghazal / Ada Jafri Ghazals
01. Aakhiri Tees Aazmane Ko / Ada Jafri
02. Aankhon Mein Roop Subah Ki Pahli Kiran Sa Hai – Ada Jafri
03. Ghar Ka Rasta Bhi Mila Tha Shayad – Ada Jafri
04. Khud Hijaabon Sa Khud Jamaal Sa Tha – Ada Jafri

 

अदा जाफ़री की शायरी संग्रह हिंदी में

अदा जाफ़री का जन्म उत्तर प्रदेश, भारत में 22 अगस्त 1924 में हुआ था। इनका बचपन का नाम अज़ीज़ जहान था। वे केवल तीन वर्ष की थी जब उन्के पिता, मौलवी बदरूल हसन की मृत्यु हो गयी थी और उनकी माँ ने उनका का पालन-पोषण किया। अदा जाफ़री 12 वर्ष की उम्र से ही कविता लिखने लगीं। नुरून हसन जाफरी से लखनऊ में 29 जनवरी 1947 को शादी हो जाती है। शादी के बाद वह अपने पति के साथ लखनऊ से कराची चले जाते हैं। जहाँ नुरून अँग्रेजी और उर्दू समाचार पत्र में एक लेखक बन जाते हैं। 3 दिसम्बर 1995 को नुरून की मौत हो जाती है। इसके बाद वह कराची से टोरोंटो में चले जाती हैं।
अदा जाफरी की कार्यों की सूची मै ज्यादातर गज़ल है हालांकि उन्होंनें आजाद नज़्म और उर्दू हाइक का भी प्रयोग किया है। उर्दू शायरी की दो शैलियाँ है- नज़्म और ग़ज़ल और उन्होंनें दोनों में महारत थी। अपनी गज़लों में उन्होंनें उपनाम ‘अदा‘ का प्रयोग किया। कविताओं और गज़ल आदि के अलावा उन्होंनें कुछ मज़ामीन भी लिखे हैं।
उनके आखरी समय मे अदा जाफरी का इलाज कराची मे हो रहा था। 12 मार्च 2015 की शाम को उनकी मृत्यु हो गई। मृत्यु के समय वे 90 वर्ष की थी।

गुलज़ारियत डॉट कॉम पे आप अदा जाफ़री की सभी शायरी / ग़ज़ल को हिंदी में पढ़ सकते हैं ।

क्रम संख्या: अदा जाफ़री की ग़ज़लें:
01. आखिरी टीस आज़माने को / अदा जाफरी 
02. आँखों में रूप सुबह की पहली किरण सा है / अदा जाफरी
03. घर का रास्ता भी मिला था शायद / अदा जाफरी
04. खुद हिजाबों सा खुद जमाल सा था / अदा जाफरी