Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahin Likhkha Maine – Anwar Jalalpuri Ghazal

Anwar Jalalpuri Ghazal : Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahin Likha Maine

Zulf ko abr ka tukda nahin likhkha maine
aaj tak koi qasida nahin likhkha maine .!

Jab mukhatab kiya qaatil ko toh qaatil likhkha
lakhnavi ban ke maseeha nahin likhkha maine .!

Maine likhkha hai use maryam o seeta ki tarah
jism ko us ke ajanta nahin likhkha maine .!

Kabhi naqqash bataya kabhi me’amaar kaha
dast-e-fankaar ko kaasa nahin likhkha maine .!

Tu mere paas tha ya teri puraani yaaden
koi ek sher bhi tanha nahin likhkha maine .!

Neend tooti ki ye zaalim mujhe mil jaati hai
zindagi ko kabhi sapna nahin likhkha maine .!

Mera har sher haqeeqat ki hai zinda tasveer
apne ash’aar mein qissa nahin likhkha maine .!!

Anwar Jalalpuri

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिखा मैंने – अनवर जलालपुरी ग़ज़ल

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिख्खा मैंने
आज तक कोई क़सीदा नहीं लिख्खा मैंने ।

जब मुख़ातब किया क़ातिल को तो क़ातिल लिख्खा
लखनवी बन के मसीहा नहीं लिख्खा मैंने ।

मैंने लिख्खा है उसे मरियम ओ सीता की तरह
जिस्म को उस के अजंता नहीं लिख्खा मैंने ।

कभी नक़्क़ाश बताया कभी मेमार कहा
दस्त-फ़नकार को कासा नहीं लिख्खा मैंने ।

तू मेरे पास था या तेरी पुरानी यादें
कोई इक शेर भी तन्हा नहीं लिख्खा मैंने ।

नींद टूटी कि ये ज़ालिम मुझे मिल जाती है
ज़िंदगी को कभी सपना नहीं लिख्खा मैंने ।

मेरा हर शेर हक़ीक़त की है ज़िंदा तस्वीर
अपने अशआर में क़िस्सा नहीं लिख्खा मैंने ।।

अनवर जलालपुरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment