Zindagi Kya Hai Ek Kahani Hai – Jaun Eliya Ghazal

Jaun Eliya Ghazal : Zindagi Kya Hai Ek Kahani Hai

Zindagi kya hai ek kahani hai
ye kahani nahin sunaani hai.!

Hai khuda bhi ajeeb yaani jo
na zameeni na aasmaani hai.!

Hai mere shauq-e-wasl ko ye gila
us ka pahlu sara-e-faani hai.!

Apni taamir-e-jaan-o-dil ke liye
apni buniyaad hum ko dhaani hai.!

Ye hai lamhon ka ek shahar-e-azal
yaan ki har baat na-gahaani hai.!

Chaliye aey jaan-e-shaam aaj tumhen
shama ek qabr par jalaani hai.!

Rang ki apni baat hai warna
aakhirash khoon bhi toh paani hai.!

Ek abas ka wajood hai jis se
zindagi ko muraad paani hai.!

Shaam hai aur sahan mein dil ke
ek ajab huzn-e-aasmaani hai.!!

Jaun Eliya

जॉन एलिया ग़ज़ल : ज़िंदगी क्या है एक कहानी है

ज़िंदगी क्या है एक कहानी है
ये कहानी नहीं सुनानी है ।

है ख़ुदा भी अजीब या’नी जो
न ज़मीनी न आसमानी है ।

है मेरे शौक़-ए-वस्ल को ये गिला
उस का पहलू सरा-ए-फ़ानी है ।

अपनी तामीर-ए-जान-ओ-दिल के लिए
अपनी बुनियाद हम को ढानी है ।

ये है लम्हों का एक शहर-ए-अज़ल
याँ की हर बात ना-गहानी है ।

चलिए ऐ जान-ए-शाम आज तुम्हें
शमा एक क़ब्र पर जलानी है ।

रंग की अपनी बात है वर्ना
आख़िरश ख़ून भी तो पानी है ।

एक अबस का वजूद है जिस से
ज़िंदगी को मुराद पानी है ।

शाम है और सहन में दिल के
एक अजब हुज़न-ए-आसमानी है ।।

जॉन एलिया

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment