Zalzale Ka Khauf Taari Hai Dar-o-Deewar Par : Aslam Kolsari Ghazal

Aslam Kolsari — Zalzale Ka Ḳhauf Taari Hai Dar-o-Deewar Par

Zalzale ka ḳhauf taari hai dar-o-deewar par
jabki main baitha hua hoon kaanpte meenaar par.

Haan isi raste mein hai shahar-e-nigaar-e-aarzu
aap chalte jaaiye mere lahoo ki dhaar par.

Phir uda laayi hawa mujh ko jalaane ke liye
zard pattey chand sookhi tahniyan do-chaar par.

Taair-e-taḳheel ka saara badan aazad hai
sirf ek patthar pada hai sheesha-e-minqaar par.

Waqt ka dariya toh in aankhon se takraata raha
apne hissey mein na aaya lamha-e-deedar par.

Saara paani chhagalon se aablon mein aa gaya
chilchilaati dhoop ke jalte hue israar par. !!

असलम कोलसरी ग़ज़ल : ज़लज़ले का खौफ तारी है दर-ओ-दीवार पर

ज़लज़ले का ख़ौफ़ तारी है दर-ओ-दीवार पर
जबकि मैं बैठा हुआ हूँ काँपते मीनार पर.

हाँ इसी रस्ते में है शहर-ए-निगार-ए-आरज़ू
आप चलते जाइए मेरे लहू की धार पर.

फिर उड़ा लाई हवा मुझ को जलाने के लिए
ज़र्द पत्ते चंद सूखी टहनियाँ दो-चार पर.

ताइर-ए-तख़्ईल का सारा बदन आज़ाद है
सिर्फ़ इक पत्थर पड़ा है शीशा-ए-मिनक़ार पर .

वक़्त का दरिया तो इन आँखों से टकराता रहा
अपने हिस्से में न आया लम्हा-ए-दीदार पर.

सारा पानी छागलों से आबलों में आ गया
चिलचिलाती धूप के जलते हुए इसरार पर. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment