Ye Qarz Toh Mera Hai Chukayega Koi Aur : Aanis Moeen Ghazal

Aanis Moeen — Ye Qarz Toh Mera Hai Chukayega Koi Aur

Ye qarz toh mera hai chukayega koi aur
dukh mujh ko hai aur neer bahayega koi aur.

Kya phir yunhi di jayegi ujrat pe gawaahi
kya teri saza ab ke bhi payega koi aur.

Anjaam ko pahunchunga main anjaam se pahle
ḳhud meri kahani bhi sunayega koi aur.

Tab hogi ḳhabar kitni hai raftaar-e taġhayyur
jab shaam dhale laut ke aayega koi aur.

Ummeed-e sahar bhi toh viraasat mein hai shaamil
shayad ki diya ab ke jalayega koi aur.

Kab bar-e tabassum mere honthon se uthega
ye bojh bhi lagta hai uthayega koi aur.

Is baar hoon dushman ki rasaai se bahut door
is baar magar zaḳhm lagayega koi aur.

Shaamil pas-e-parda bhi hain is khel mein kuchh log
bolega koi honth hilayega koi aur. !!

आनिस मोईन — ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और 

ये क़र्ज़ तो मेरा है चुकाएगा कोई और
दुख मुझ को है और नीर बहाएगा कोई और.

क्या फिर यूँही दी जाएगी उजरत पे गवाही
क्या तेरी सज़ा अब के भी पाएगा कोई और.

अंजाम को पहुँचूँगा मैं अंजाम से पहले
ख़ुद मेरी कहानी भी सुनाएगा कोई और.

तब होगी ख़बर कितनी है रफ़्तार-ए-तग़य्युर
जब शाम ढले लौट के आएगा कोई और.

उम्मीद-ए-सहर भी तो विरासत में है शामिल
शायद कि दिया अब के जलाएगा कोई और.

कब बार-ए-तबस्सुम मिरे होंटों से उठेगा
ये बोझ भी लगता है उठाएगा कोई और.

इस बार हूँ दुश्मन की रसाई से बहुत दूर
इस बार मगर ज़ख़्म लगाएगा कोई और.

शामिल पस-ए-पर्दा भी हैं इस खेल में कुछ लोग
बोलेगा कोई होंट हिलाएगा कोई और. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment