Ye Aur Baat Ki Rang-e Bahar Kam Hoga : Aanis Moeen Ghazal

 

Aanis Moeen — Ye Aur Baat Ki Rang-e Bahaar Kam Hoga

Ye aur baat ki rang-e bahaar kam hoga
nayi rutton mein daraḳhton ka baar kam hoga.

Taalluqat mein aayi hai bas ye tabdili
milenge ab bhi magar intezaar kam hoga.

Main sochta raha kal raat baith kar tanha
ki is hujoom mein mera shumaar kam hoga.

Palat toh aayega shayad kabhi yahi mausam
tere baġhair magar ḳhush-gavaar kam hoga.

Bahut taweel hai ‘Aanis’ ye zindagi ka safar
bas ek shaḳhs pe daar-o-madaar kam hoga. !!

आनिस मोईन — ये और बात कि रंग-ए-बहार कम होगा

ये और बात कि रंग-ए बहार कम होगा
नई रुतों में दरख़्तों का बार कम होगा.

ताल्लुक़ात में आई है बस ये तब्दीली
मिलेंगे अब भी मगर इंतज़ार कम होगा.

मैं सोचता रहा कल रात बैठ कर तन्हा
कि इस हुजूम में मेरा शुमार कम होगा.

पलट तो आएगा शायद कभी यही मौसम
तेरे बग़ैर मगर ख़ुश-गवार कम होगा.

बहुत तवील है ‘आनिस ‘ ये ज़िंदगी का सफ़र
बस एक शख़्स पे दार-ओ-मदार कम होगा. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment