Woh Kuchh Gehri Soch Mein Aise Doob Gaya Hai – Aanis Moeen Ghazal

Woh kuchh gehri soch mein aise doob gaya hai,
baithe baithe nadii kinaare doob gaya hai.

Aaj ki raat na jaane kitni lambi hogi,
aaj ka sooraj shaam se pehle doob gaya hai.

Woh jo pyaasa lagta tha sailaab-zada tha,
paani paani kehte kehte doob gaya hai.

Mere apne andar ek bhanwar tha jis mein,
mera sab kuchh saath hi mere doob gaya hai.

Shor toh yun utha tha jaise ek toofaan ho,
sanaatte mein jaane kaise doob gaya hai.

Aakhiri khwaahish poori kar ke jeena kaisa,
aanis’ bhi saahil tak aa ke doob gaya hai. !!


वो कुछ गहरी सोच में ऐसे डूब गया है – आनिस मुईन ग़ज़ल

वो कुछ गहरी सोच में ऐसे डूब गया है.
बैठे बैठे नदी किनारे डूब गया है.

आज की रात न जाने कितनी लम्बी होगी,
आज का सूरज शाम से पहले डूब गया है

वो जो प्यासा लगता था सैलाब-ज़दा था,
पानी पानी कहते कहते डूब गया है.

मेरे अपने अंदर एक भँवर था जिस में,
मेरा सब कुछ साथ ही मेरे डूब गया है.

शोर तो यूँ उट्ठा था जैसे इक तूफ़ाँ हो,
सन्नाटे में जाने कैसे डूब गया है

आख़िरी ख़्वाहिश पूरी कर के जीना कैसा,
‘आनिस’ भी साहिल तक आ के डूब गया है .!!!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment