Wazir Agha Poetry / Shayari / Ghazals | वज़ीर आग़ा की शायरी

Wazir Agha Poetry / Shayari / Ghazals | वज़ीर आग़ा की शायरी
4.5 (89.52%) 21 vote[s]

Wazir Agha Poetry / Ghazals Collection

wazir_aghaWazir Agha was an Urdu poet, writer, critic and essayis. Wazir Agha was born on 18 May 1922 in the village Wazir Kot in the Sargodha district. Wazir Agha picked up the Persian language from his father, Punjabi from his mother and the English language from his British friends. During his school years, he developed a strong fondness for Urdu ghazals and started composing poetry on his own. Wazir Agha graduated from Government College, Jhang and later received his masters in Economics from Government College, Lahore. Wazir Agha was awarded the degree of doctorate by the University of Punjab in 1956 for his research on humor and satire in Urdu Literature. Wazir Agha was the editor of the college magazine “Chanab” in Government College, Jhang. In 1944. From 1960 to 1963, Wazir Agha acted as a co-editor of Adbi Duniya and from 1965 onwards, he remained editor of monthly Auraq for many decades. Pakistan Academy of Letters (PAL) has published a book on life and work of Dr. Wazir Agha under publishing project of “Makers of Pakistani Literature”. Wazir Agha also wrote an autobiography Shaam Ki Mundair Sey.

Wazir Agha introduced many theories in Urdu literature. Wazir Agha‘s most famous work is on Urdu humour. Wazir Agha‘s books focus on modern Urdu poets, notably those who have written more poems instead of ghazals. Wazir Agha‘s poems have mostly an element of story.

Wazir Agha has received Sitara-e-Imtiaz for his best contributions to Urdu literature. Wazir Agha was also nominated for the Nobel Prize. Wazir Agha died on 7 September 2010 in Lahore.

Read here all Wazir Agha Poetry collection on Gulzariyat.com

 

SN: Wazir Agha Ghazals:
01. Badal Baras Ke Khul Gaya Rut Mehrban Hui / Wazir Agha
02. Dhoop Ke Saath Gaya Saath Nibhane Wala / Wazir Agha
03. Din Dhal Chuka Tha Aur Parinda Safar Mein Tha / Wazir Agha

वज़ीर आग़ा की शायरी संग्रह हिंदी में

वजीर आगा का जन्म 18 मई 1922 को सरगोधा जिले के वज़ीर कोट गाँव में हुआ था। वजीर आगा ने अपने पिता से पंजाबी, अपनी मां से पंजाबी और अपने ब्रिटिश दोस्तों से अंग्रेजी भाषा को अपनाया। अपनी पढ़ाई के दौरान ही उन्हें उर्दू ग़ज़लों का शौक़ हुआ और वो खुद की कवितायें लिखने लगे। उन्होंने गवर्नमेंट कॉलेज, झांग से स्नातक किया और बाद में गवर्नमेंट कॉलेज, लाहौर से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर किया। उन्हें उर्दू साहित्य में हास्य और व्यंग्य पर उनके शोध के लिए 1956 में पंजाब विश्वविद्यालय द्वारा डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया था। वजीर आगा सरकारी कॉलेज, झांग में कॉलेज पत्रिका “चनाब” के संपादक थे। 1944 में। 1960 से 1963 तक, उन्होंने अदबी दुनीया के सह-संपादक के रूप में काम किया और 1965 से, वह कई दशकों तक मासिक “औराक़” के संपादक रहे। पाकिस्तान अकादमी ऑफ़ लेटर्स (पाल) ने “मेकर्स ऑफ़ पाकिस्तानी लिटरेचर” के प्रकाशन परियोजना के तहत डॉ वज़ीर आगा के जीवन और कार्य पर एक पुस्तक प्रकाशित की है। वजीर आगा ने एक आत्मकथा “शाम की मुंडेर से” भी लिखी। वजीर आगा का 7 सितंबर 2010 को लाहौर में निधन हो गया।

यहाँ गुलज़ारियत डॉट कॉम पे आप वज़ीर आग़ा साहब की सभी शायरी / ग़ज़ल को हिंदी में पढ़ सकते हैं ।

क्रम संख्या: वज़ीर आग़ा की ग़ज़लें:
01. बादल बरस के खुल गया रुत मेहरबाँ हुई / वज़ीर आग़ा
02. धूप के साथ गया साथ निभाने वाला / वज़ीर आग़ा
03. दिन ढल चुका था और परिंदा सफ़र में था / वज़ीर आग़ा