Tare Sare Raqs Karenge Chand Zameen Par Utrega – Sajid Hashmi Ghazal

Sajid Hashmi Ghazal : Taare Sare Raqs Karenge Chaand Zameen Par Utrega

Taare saare raqs karenge chaand zameen par utrega
aks mere mahboob ka jab bhi jal ke andar utrega .!

Un nainon mein sab kuchh khoya dil dooba aur hosh gaye
jin nainon ki gahraai mein ek samundar utrega .!

Shahar-e-dil ke har raste par deep jalaaye baitha hoon
un ki yaadon ka ye lashkar mere ghar par utrega .!

Woh aaye toh saara aangan saara gulshan mahkega
un ka jalwa khushbu ban kar gul mein aksar utrega .!

Deewana toh deewana hai kya rasta or kya manzil
par apne mahboob ke ghar hi aisa be-ghar utrega .!

Hum jaise hain aur jahan hain achchhe achchhe kaam karen
na hum nabh tak pahunch sakenge aur na ambar utrega .!

Ghar chhote hain par logon ke dil toh mahlon jaise hain
is basti mein ek na ek din ek sikandar utrega .!

Tum sab se achchhe ho saajan aur ‘sajid’ ko pyaare ho
roop tumhara ab kaaghaz par ghazlen ban kar utrega .!!

Sajid Hashmi

तारे सारे रक़्स करेंगे चाँद ज़मीं पर उतरेगा : साजिद हाश्मी ग़ज़ल

तारे सारे रक़्स करेंगे चाँद ज़मीं पर उतरेगा
अक्स मेरे महबूब का जब भी जल के अंदर उतरेगा ।

उन नैनों में सब कुछ खोया दिल डूबा और होश गए
जिन नैनों की गहराई में एक समुंदर उतरेगा ।

शहर-ए-दिल के हर रस्ते पर दीप जलाए बैठा हूँ
उन की यादों का ये लश्कर मेरे घर पर उतरेगा ।

वो आए तो सारा आँगन सारा गुलशन महकेगा
उन का जल्वा ख़ुशबू बन कर गुल में अक्सर उतरेगा ।

दीवाना तो दीवाना है क्या रस्ता ओर क्या मंज़िल
पर अपने महबूब के घर ही ऐसा बे-घर उतरेगा ।

हम जैसे हैं ओर जहाँ हैं अच्छे अच्छे काम करें
न हम नभ तक पहुँच सकेंगे ओर न अम्बर उतरेगा ।

घर छोटे हैं पर लोगो के दिल तो महलों जैसे हैं
इस बस्ती में एक न एक दिन एक सिकंदर उतरेगा ।

तुम सब से अच्छे हो साजन और ‘साजिद’ को प्यारे हो
रूप तुम्हारा अब काग़ज़ पर ग़ज़लें बन कर उतरेगा ।।

साजिद हाश्मी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment