Home / Urdu Ghazal / Suni Hai Chap Bahut Waqt Ke Guzarne Ki – Ajmal Siraj Ghazal

Suni Hai Chap Bahut Waqt Ke Guzarne Ki – Ajmal Siraj Ghazal

4.0
05

Suni Hai Chaap Bahut Waqt Ke Guzarne Ki – Ajmal Siraj

Suni hai chaap bahut waqt ke guzarne ki
magar ye zakhm ki hasrat hai jis ke bharne ki .!

Humare sar pe toh ye aasmaan toot pada
ghadi jab aai sitaaron se maang bharne ki .!

Girah mein daam toh rakhte hain zahar khaane ko
ye aur baat ki fursat nahin hai marne ki .!

Bahut malaal hai tujh ko na dekh paane ka
bahut khushi hai teri raah se guzarne ki .!

Bataao tum se kahan raabta kiya jaaye
kabhi jo tum se zaroorat ho baat karne ki .!!

Ajmal Siraj

सुनी है चाप बहुत वक़्त के गुज़रने की – अजमल सिराज ग़ज़ल

सुनी है चाप बहुत वक़्त के गुज़रने की
मगर ये ज़ख़्म कि हसरत है जिस के भरने की ।

हमारे सर पे तो ये आसमान टूट पड़ा
घड़ी जब आई सितारों से माँग भरने की ।

गिरह में दाम तो रखते हैं ज़हर खाने को
ये और बात कि फ़ुर्सत नहीं है मरने की ।

बहुत मलाल है तुझ को न देख पाने का
बहुत ख़ुशी है तेरी राह से गुज़रने की ।

बताओ तुम से कहाँ राब्ता किया जाए
कभी जो तुम से ज़रूरत हो बात करने की ।।

अजमल सिराज

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Reply