Soch Raha Hoon Ghar Aangan Mein Ek Lagaun Aam Ka Ped – Anwar Jalalpuri Ghazal

 

Soch Raha Hun Ghar Aangan Mein Ek Lagaun Aam Ka Ped

Soch raha hoon ghar aangan mein ek lagaun aam ka ped
khatta khatta meetha meetha yaani tere naam ka ped .!

Ek jogi ne bachpan aur budhaape ko aise samjhaya
woh tha mere aaghaaz ka paudha ye hai mere anjaam ka ped .!

Saare jeevan ki ab is se behtar hogi kya tasveer
bhor ki konpal, subah ke mewe, dhoop ki shaakhen, shaam ka ped .!

Kal tak jiski daal daal par phool masarrat ke khilte the
aaj usi ko sab kahte hain ranj-o-ghum-o-aalaam ka ped .!

Ek aandhi ne sab bachchon se unka saaya chheen liya
chhaanv mein jinki chain bahut tha jo tha bade aaraam ka ped .!

Neem humare ghar ki shobha jaamun se bachpan ka rishta
hum kya jaane kis rangat ka hota hai baadaam ka ped .!!

Anwar Jalalpuri

सोच रहा हूँ घर आँगन में एक लगाऊँ आम का पेड़ 

सोच रहा हूँ घर आँगन में एक लगाऊँ आम का पेड़
खट्टा खट्टा, मीठा मीठा यानी तेरे नाम का पेड़ ।

एक जोगी ने बचपन और बुढ़ापे को ऐसे समझाया
वो था मेरे आग़ाज़ का पौधा ये है मेरे अंजाम का पेड़ ।

सारे जीवन की अब इससे बेहतर होगी क्या तस्वीर
भोर की कोंपल, सुबह के मेवे, धूप की शाख़ें, शाम का पेड़ ।

कल तक जिसकी डाल डाल पर फूल मसर्रत के खिलते थे
आज उसी को सब कहते हैं रंज-ओ-ग़म-ओ-आलम का पेड़ ।

एक आँधी ने सब बच्चों से उनका साया छीन लिया
छाँव में जिनकी चैन बहुत था जो था बड़े आराम का पेड़ ।

नीम हमारे घर की शोभा जामुन से बचपन का रिश्ता
हम क्या जाने किस रंगत का होता है बादाम का पेड़ ।।

अनवर जलालपुरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment