Har Qadam Par Nit-nae Sanche Mein Dhal Jate Hain Log – Himayat Ali Shayar Ghazal

Ghazal Name:Har qadam par nit-naye sanche mein dhal jaate hain log
ग़ज़ल का हिंदी नाम :हर क़दम पर नित-नए साँचे में ढल जाते हैं लोग
Urdu Poet Name:Himayat Ali Shayar
शायर का नाम : हिमायत अली शाएर
Poetry Topic : Dosti, Anjuman, Aag, Shama, Manzil, Aawaz, Mitti, Talaash,Jannat, Saaya,Urdu Poetry
शायरी विषय : दोस्ती, अंजुमन, आग, शमा, ,मंज़िल, आवाज़, मिटटी, तलाश, जन्नत, साया, उर्दू पोएट्री