Sawaal Dil Ka Shaam-e-ghum Ko Aur Udaas Kar Gaya – Hameed Naseem Ghazal

Hameed Naseem Ghazal : Sawaal Dil Ka Shaam-e-Gham Ko Aur Udaas Kar Gaya

Sawaal dil ka shaam-e-ghum ko aur udaas kar gaya
tere wajood mein jo ek main tha woh kidhar gaya.!

Tilism-e-shauq fikr-e-zinda aur karb-e-aagahi
tamaam umar ka safar nigaah se guzar gaya.!

Chale toh hausla jawaan tha mauj-e-gul thi aarzoo
jidhar bhi aankh uth gayi samaan nikhar nikhar gaya.!

Kabhi andheri shab mein ek muheeb dasht saamne
kabhi mah-e-tamaam saath saath ta-sahar gaya.!

Har ek daur munfarid tha ab bhi dil pe naqsh hai
gaya toh yun laga ki jee ka ek hissa mar gaya.!

Na yaad ki chubhan koi na koi lau malaal ki
main jaane kitni door yunhi khud se be-khabar gaya.!

Nigaah-e-dost dil-navaz bhi girah-kusha bhi thi
khula jo dil pe zindagi ka bhed ji thahar gaya.!

Jahan wajood mein tha ‘maiñ’ ab ek aur naam hai
ki mera bigda hua kaam us ke lutf se sanvar gaya.!

Woh sail-e-noor shab ki ibtida se ta-sahar gaya
dil us ke bal pe apne bahr-e-ghum ke paar utar gaya.!!

Hameed Naseem

हमीद नसीम ग़ज़ल : सवाल दिल का शाम-ए-ग़म को और उदास कर गया

सवाल दिल का शाम-ए-ग़म को और उदास कर गया
तेरे वजूद में जो एक मैं था वो किधर गया ।

तिलिस्म-ए-शौक़ फ़िक्र-ए-ज़िंदा और कर्ब-ए-आगही
तमाम उम्र का सफ़र निगाह से गुज़र गया ।

चले तो हौसला जवाँ था मौज-ए-गुल थी आरज़ू
जिधर भी आँख उठ गई समाँ निखर निखर गया ।

कभी अँधेरी शब में एक मुहीब दश्त सामने
कभी मह-ए-तमाम साथ साथ ता-सहर गया ।

हर एक दौर मुनफ़रिद था अब भी दिल पे नक़्श है
गया तो यूँ लगा कि जी का एक हिस्सा मर गया ।

न याद की चुभन कोई न कोई लौ मलाल की
मैं जाने कितनी दूर यूँही ख़ुद से बे-ख़बर गया ।

निगाह-ए-दोस्त दिल-नवाज़ भी गिरह-कुशा भी थी
खुला जो दिल पे ज़िंदगी का भेद जी ठहर गया ।

जहाँ वजूद में था ”मैं” अब एक और नाम है
कि मेरा बिगड़ा हुआ काम उस के लुत्फ़ से सँवर गया ।

वो सैल-ए-नूर शब की इब्तिदा से ता-सहर गया
दिल उस के बल पे अपने बहर-ए-ग़म के पार उतर गया ।।

हमीद नसीम

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment