Qareeb Aate Hue Aur Door Jaate Hue – Jamal Owaisi Ghazal

Jamal Owaisi Ghazal : Qareeb Aate Hue Aur Door Jaate Hue

Qareeb aate hue aur door jaate hue
ye kaun log hain be-wajah muskuraate hue .!

Ye lamhe saaz-e-azal se chhalak ke gir gaye thay
tabhi se yun hi musalsal hain gungunaate hue .!

Ek aisi samt jidhar kab se hoo ka aalam hai
main ja raha hoon akela qadam badhaate hue .!

Main kab se dekh raha hoon ajeeb si harakat
mera likha hua kuchh log hain mitaate hue .!

Jo dal ke paas thay un se hai ma’arka darpesh
chala hoon jazbon ki deewar aaj dhaate hue .!!

Jamal Owaisi

जमाल ओवैसी ग़ज़ल : करीब आते हुए और दूर जाते हुए

क़रीब आते हुए और दूर जाते हुए
ये कौन लोग हैं बे-वज्ह मुस्कुराते हुए ।

ये लम्हे साज़-ए-अज़ल से छलक के गिर गए थे
तभी से यूँ ही मुसलसल हैं गुनगुनाते हुए ।

एक ऐसी सम्त जिधर कब से हू का आलम है
मैं जा रहा हूँ अकेला क़दम बढ़ाते हुए ।

मैं कब से देख रहा हूँ अजीब सी हरकत
मेरा लिखा हुआ कुछ लोग हैं मिटाते हुए ।

जो दल के पास थे उन से है मअ’रका दरपेश
चला हूँ जज़्बों की दीवार आज ढाते हुए ।।

जमाल ओवैसी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment