घासवाली कहानी प्रेमचंद – Ghaaswali Hindi Story by Munsi Premchand

4.7 06 घासवाली — मुंशी प्रेमचंद  मुलिया हरी-हरी घास का गट्ठा लेकर आयी, तो उसका गेहुआँ रंग कुछ तमतमाया हुआ था और बड़ी-बड़ी मद-भरी आँखो में शंका समाई हुई थी। महावीर ने उसका तमतमाया हुआ चेहरा देखकर पूछा – क्या है मुलिया, आज कैसा जी है? मुलिया ने कुछ जवाब न दिया उसकी आँखें डबडबा गयीं! महावीर …

Full Shayariघासवाली कहानी प्रेमचंद – Ghaaswali Hindi Story by Munsi Premchand