Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge – Anwar Jalalpuri Ghazal

Anwar Jalalpuri Ghazal : Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge
mata-e-zindagi ek din hum bhi luta denge .!

Tum apne saamne ki bheed se ho kar guzar jaao
ki aage waale toh hargiz na tum ko rasta denge .!

Jalaaye hain diye toh phir hawaaon par nazar rakho
ye jhonke ek pal mein sab charaghon ko bujha denge .!

Koi puchhega jis din waaqai ye zindagi kya hai
zameen se ek mutthi khaak le kar hum uda denge .!

Gila shikwa hasad keena ke tohfe meri qismat hain
mere ahbaab ab is se ziyada aur kya denge .!

Musalsal dhoop mein chalna charaghon ki tarah jalna
ye hangaame toh mujh ko waqt se pahle thaka denge .!

Agar tum aasmaan par ja rahe ho shauq se jaao
mere naqsh-e-qadam aage ki manzil ka pata denge .!!

Anwar Jalalpuri

अनवर जलालपुरी ग़ज़ल : पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे
मता-ए-ज़िंदगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे ।

तुम अपने सामने की भीड़ से हो कर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हरगिज़ न तुम को रास्ता देंगे ।

जलाए हैं दिए तो फिर हवाओं पर नज़र रक्खो
ये झोंके एक पल में सब चराग़ों को बुझा देंगे ।

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िंदगी क्या है
ज़मीं से एक मुट्ठी ख़ाक ले कर हम उड़ा देंगे ।

गिला शिकवा हसद कीना के तोहफ़े मेरी क़िस्मत हैं
मेरे अहबाब अब इस से ज़ियादा और क्या देंगे ।

मुसलसल धूप में चलना चराग़ों की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझ को वक़्त से पहले थका देंगे ।

अगर तुम आसमाँ पर जा रहे हो शौक़ से जाओ
मेरे नक़्श-ए-क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे ।।

अनवर जलालपुरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment