Home Blog Page 3

Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge – Anwar Jalalpuri Ghazal

0
Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge – Anwar Jalalpuri Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Anwar Jalalpuri Ghazal : Paraya Kaun Hai Aur Kaun Apna Sab Bhula Denge

Paraya kaun hai aur kaun apna sab bhula denge
mata-e-zindagi ek din hum bhi luta denge .!

Tum apne saamne ki bheed se ho kar guzar jaao
ki aage waale toh hargiz na tum ko rasta denge .!

Jalaaye hain diye toh phir hawaaon par nazar rakho
ye jhonke ek pal mein sab charaghon ko bujha denge .!

Koi puchhega jis din waaqai ye zindagi kya hai
zameen se ek mutthi khaak le kar hum uda denge .!

Gila shikwa hasad keena ke tohfe meri qismat hain
mere ahbaab ab is se ziyada aur kya denge .!

Musalsal dhoop mein chalna charaghon ki tarah jalna
ye hangaame toh mujh ko waqt se pahle thaka denge .!

Agar tum aasmaan par ja rahe ho shauq se jaao
mere naqsh-e-qadam aage ki manzil ka pata denge .!!

Anwar Jalalpuri

अनवर जलालपुरी ग़ज़ल : पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे

पराया कौन है और कौन अपना सब भुला देंगे
मता-ए-ज़िंदगानी एक दिन हम भी लुटा देंगे ।

तुम अपने सामने की भीड़ से हो कर गुज़र जाओ
कि आगे वाले तो हरगिज़ न तुम को रास्ता देंगे ।

जलाए हैं दिए तो फिर हवाओं पर नज़र रक्खो
ये झोंके एक पल में सब चराग़ों को बुझा देंगे ।

कोई पूछेगा जिस दिन वाक़ई ये ज़िंदगी क्या है
ज़मीं से एक मुट्ठी ख़ाक ले कर हम उड़ा देंगे ।

गिला शिकवा हसद कीना के तोहफ़े मेरी क़िस्मत हैं
मेरे अहबाब अब इस से ज़ियादा और क्या देंगे ।

मुसलसल धूप में चलना चराग़ों की तरह जलना
ये हंगामे तो मुझ को वक़्त से पहले थका देंगे ।

अगर तुम आसमाँ पर जा रहे हो शौक़ से जाओ
मेरे नक़्श-ए-क़दम आगे की मंज़िल का पता देंगे ।।

अनवर जलालपुरी

Duniya Luti Toh Door Se Takta Hi Rah Gaya – Ibrahim Ashk Ghazal

0
Duniya Luti Toh Door Se Takta Hi Rah Gaya – Ibrahim Ashk Ghazal
4.6 (92%) 5 vote[s]

Ibrahim Ashk Ghazal : Duniya Luti To Dur Se Takta Hi Rah Gaya

Duniya luti toh door se takta hi rah gaya
aankhon mein ghar ke khwaab ka naqsha hi rah gaya .!

Us ke badan ka loch tha dariya ki mauj mein
saahil se main bahaav ko takta hi rah gaya .!

Duniya bahut qareeb se uth kar chali gayi
baitha main apne ghar mein akela hi rah gaya .!

Woh apna aks bhool ke jaane laga toh main
aawaaz de ke us ko bulaata hi rah gaya .!

Humraah us ke saari bahaaren chali gayi
meri zubaan pe phool ka charcha hi rah gaya .!

Kuchh is adaa se aa ke mila hum se ‘ashk’ woh
aankhon mein jazb ho ke saraapa hi rah gaya .!!

Ibrahim Ashk

इब्राहीम अश्क़ ग़ज़ल : दुनिया लुटी तो दूर से तकता ही रह गया

दुनिया लुटी तो दूर से तकता ही रह गया
आँखों में घर के ख़्वाब का नक़्शा ही रह गया ।

उस के बदन का लोच था दरिया की मौज में
साहिल से मैं बहाव को तकता ही रह गया ।

दुनिया बहुत क़रीब से उठ कर चली गई
बैठा मैं अपने घर में अकेला ही रह गया ।

वो अपना अक्स भूल के जाने लगा तो मैं
आवाज़ दे के उस को बुलाता ही रह गया ।

हमराह उस के सारी बहारें चली गईं
मेरी ज़बाँ पे फूल का चर्चा ही रह गया ।

कुछ इस अदा से आ के मिला हम से ‘अश्क’ वो
आँखों में जज़्ब हो के सरापा ही रह गया ।।

इब्राहीम अश्क़

Dekha Toh Koi Aur Tha Socha Toh Koi Aur – Ibrahim Ashk Ghazal

0
Dekha Toh Koi Aur Tha Socha Toh Koi Aur – Ibrahim Ashk Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Ibrahim Ashk Ghazal : Dekha To Koi Aur Tha Socha To Koi Aur

Dekha toh koi aur tha socha toh koi aur
jab aa ke mila aur tha chaha toh koi aur .!

Us shakhs ke chehre mein kayi rang chhupe the
chup tha toh koi aur tha bola toh koi aur .!

Do-chaar qadam par hi badalte hue dekha
thahra toh koi aur tha guzra toh koi aur .!

Tum jaan ke bhi us ko na pahchaan sakoge
anjaane mein woh aur hai jaana toh koi aur .!

Uljhan mein hoon kho dun ki useu pa lun karun kya
khone pe woh kuchh aur hai paaya toh koi aur .!

Dushman bhi hai humraaz bhi anjaan bhi hai woh
kya ‘ashk’ ne samjha usey woh tha toh koi aur .!!

Ibrahim Ashk

इब्राहीम अश्क़ ग़ज़ल : देखा तो कोई और था सोचा तो कोई और

देखा तो कोई और था सोचा तो कोई और
जब आ के मिला और था चाहा तो कोई और ।

उस शख़्स के चेहरे में कई रंग छुपे थे
चुप था तो कोई और था बोला तो कोई और ।

दो-चार क़दम पर ही बदलते हुए देखा
ठहरा तो कोई और था गुज़रा तो कोई और ।

तुम जान के भी उस को न पहचान सकोगे
अनजाने में वो और है जाना तो कोई और ।

उलझन में हूँ खो दूँ कि उसे पा लूँ करूँ क्या
खोने पे वो कुछ और है पाया तो कोई और ।

दुश्मन भी है हमराज़ भी अंजान भी है वो
क्या ‘अश्क’ ने समझा उसे वो था तो कोई और ।।

इब्राहीम अश्क़

Ajeeb Shahar Ka Naqsha Dikhaai Deta Hai – Aasi Ramnagri Ghazal

0
Ajeeb Shahar Ka Naqsha Dikhaai Deta Hai – Aasi Ramnagri Ghazal
4.3 (86.67%) 6 vote[s]

Aasi Ramnagri Ghazal : Ajib Shahr Ka Naqsha Dikhai Deta Hai

Ajeeb shahar ka naqsha dikhaai deta hai
jidhar bhi dekho andhera dikhaai deta hai .!

Nazar nazar ki hai aur apne apne zarf ki baat
mujhe toh qatre mein dariya dikhaai deta hai .!

Bura kahe jise duniya bura nahin hota
meri nazar mein woh achchha dikhaai deta hai .!

Nahin fareb-e-nazar ye yahi haqeeqat hai
mujhe toh shahar bhi sahra dikhaai deta hai .!

Hain sirf kahne ko bijlee ke qumqume raushan
har ek samt andhera dikhaai deta hai .!

Ajeeb haal hai sailaab ban gaye sahra
jise bhi dekhiye pyaasa dikhaai deta hai .!!

Aasi Ramnagri

आसी रामनगरी ग़ज़ल : अजीब शहर का नक़्शा दिखाई देता है

अजीब शहर का नक़्शा दिखाई देता है
जिधर भी देखो अँधेरा दिखाई देता है ।

नज़र नज़र की है और अपने अपने ज़र्फ़ की बात
मुझे तो क़तरे में दरिया दिखाई देता है ।

बुरा कहे जिसे दुनिया बुरा नहीं होता
मेरी नज़र में वो अच्छा दिखाई देता है ।

नहीं फ़रेब-ए-नज़र ये यही हक़ीक़त है
मुझे तो शहर भी सहरा दिखाई देता है ।

हैं सिर्फ़ कहने को बिजली के क़ुमक़ुमे रौशन
हर एक सम्त अँधेरा दिखाई देता है ।

अजीब हाल है सैलाब बन गए सहरा
जिसे भी देखिए प्यासा दिखाई देता है ।।

आसी रामनगरी

Agar Chaman Ka Koi Dar Khula Bhi Mere Liye – Mohsin Zaidi Ghazal

0
Agar Chaman Ka Koi Dar Khula Bhi Mere Liye – Mohsin Zaidi Ghazal
4 (80%) 3 vote[s]

Mohsin Zaidi Ghazal : Agar Chaman Ka Koi Dar Khula Bhi Mere Liye

Agar chaman ka koi dar khula bhi mere liye
sumoom ban gayi baad-e-saba bhi mere liye .!

Mera sukhan bhi hua us ke naam se mausoom
abas hua mera apna kaha bhi mere liye .!

Yahi nahin ki woh raste se mod kaat gaya
na chhoda us ne koi naqsh-e-pa bhi mere liye .!

Taalluqaat ka rakhna bhi todna bhi muhaal
azaab-e-jaan hai ye rasm-e-wafa bhi mere liye .!

Mujhe taweel safar ka mila tha hukum toh phir
kuchh aur hoti kushaada faza bhi mere liye .!

Mere liye jo hai zanjeer mera auj-e-nazar
kamand hai meri fikr-e-rasaa bhi mere liye .!

Dawaa hai mere liye jis ki khaak-e-pa ‘mohsin’
usi ka ism hai harf-e-duaa bhi mere liye .!!

Mohsin Zaidi

मोहसिन ज़ैदी ग़ज़ल : अगर चमन का कोई दर खुला भी मेरे लिए

अगर चमन का कोई दर खुला भी मेरे लिए
सुमूम बन गई बाद-ए-सबा भी मेरे लिए ।

मेरा सुख़न भी हुआ उस के नाम से मौसूम
अबस हुआ मेरा अपना कहा भी मेरे लिए ।

यही नहीं कि वो रस्ते से मोड़ काट गया
न छोड़ा उस ने कोई नक़्श-ए-पा भी मेरे लिए ।

ताल्लुक़ात का रखना भी तोड़ना भी मुहाल
अज़ाब-ए-जाँ है ये रस्म-ए-वफ़ा भी मेरे लिए ।

मुझे तवील सफ़र का मिला था हुक्म तो फिर
कुछ और होती कुशादा फ़ज़ा भी मेरे लिए ।

मेरे लिए जो है ज़ंजीर मेरा औज-ए-नज़र
कमंद है मिरी फ़िक्र-ए-रसा भी मेरे लिए ।

दवा है मेरे लिए जिस की ख़ाक-ए-पा ‘मोहसिन’
उसी का इस्म है हर्फ़-ए-दुआ भी मेरे लिए ।।

मोहसिन ज़ैदी

Munh Andhere Jaga Ke Chhod Gayi – Ahmad Mushtaq Ghazal

0
Munh Andhere Jaga Ke Chhod Gayi – Ahmad Mushtaq Ghazal
4.3 (86.67%) 6 vote[s]

Ahmad Mushtaq Ghazal : Munh Andhere Jaga Ke Chhod Gai

Munh andhere jaga ke chhod gayi
ek subah-e-jamaal ki aawaaz .!

Din se fursat kabhi mile toh suno
shaam ka saaz raat ki aawaaz .!

Gunjta hai abhi taraana-e-shauq
wahi aahang hai wahi aawaaz .!

Tedhe-medhe mude-tude mukhde
tooti – phooti kati – phati aawaaz .!

Bade dukh jhel kar kamaai hai
jo bhi hai ye buri – bhali aawaaz .!!

Ahmad Mushtaq

अहमद मुश्ताक़ ग़ज़ल : मुँह अंधेरे जगा के छोड़ गई

मुँह अंधेरे जगा के छोड़ गई
एक सुब्ह-ए-जमाल की आवाज़ ।

दिन से फ़ुर्सत कभी मिले तो सुनो
शाम का साज़ रात की आवाज़ ।

गूँजता है अभी तराना-ए-शौक़
वही आहंग है वही आवाज़ ।

टेढ़े-मेढ़े मुड़े-तुड़े मुखड़े
टूटी-फूटी कटी-फटी आवाज़ ।

बड़े दुख झेल कर कमाई है
जो भी है ये बुरी-भली आवाज़ ।।

अहमद मुश्ताक़

Kaun Kahta Hai Ki Mar Jaane Se Kuchh Haasil Nahin – Mela Ram Wafa Ghazal

0
Kaun Kahta Hai Ki Mar Jaane Se Kuchh Haasil Nahin – Mela Ram Wafa Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Mela Ram Wafa Ghazal : Kaun Kahta Hai Ki Mar Jaane Se Kuchh Haasil Nahin

Kaun kahta hai ki mar jaane se kuchh haasil nahin
zindagi us ki hai mar jaana jise mushkil nahin .!

Haan ye saara khel parwaanon ki jaan-bazi ka hai
shaam-e-raushan par madaar-e-girya-e-mahfil nahin .!

Aam hi karna padega un ko faiz-e-iltifaat
ghair hargiz iltifaat-e-khaas ke qaabil nahin .!

Muntakhab main hi hua mashq-e-taghaful ke liye
woh taghaful-kesh meri yaad se ghaafil nahin .!

Halqa-e-girdaab hai gahvara-e-ishrat mujhe
zauq-e-asaaish mera minnat-kash-e-saahil nahin .!

Dekhiye kya ho humare shauq-e-manzil ka ma’aal
paanv mein taaqat ba-qadr-e-doori-e-manzil nahin .!

Laakh dil qurbaan us chashm-e-nadaamat-kosh par
yaani mujh ko aarzu-e-khoon-baha-e-dil nahin .!

Marja-e-barq-e-bala hai aey ‘wafa’ duniya-e-ishq
haasil-e-hasrat yahan juz hasrat-e-haasil nahin .!!

Mela Ram Wafa

मेला राम वफ़ा ग़ज़ल : कौन कहता है कि मर जाने से कुछ हासिल नहीं

कौन कहता है कि मर जाने से कुछ हासिल नहीं
ज़िंदगी उस की है मर जाना जिसे मुश्किल नहीं ।

हाँ ये सारा खेल परवानों की जाँ-बाज़ी का है
शम-ए-रौशन पर मदार-ए-गिर्या-ए-महफ़िल नहीं ।

आम ही करना पड़ेगा उन को फ़ैज-ए-इल्तिफ़ात
ग़ैर हरगिज़ इल्तिफ़ात-ए-ख़ास के क़ाबिल नहीं ।

मुंतख़ब मैं ही हुआ मश्क-ए-तग़ाफुल के लिए
वो तग़ाफ़ुल-केश मेरी याद से ग़ाफ़िल नहीं ।

हल्क़ा-ए-गिर्दाब है गहवारा-ए-इशरत मुझे
ज़ौक-ए-आसाइश मिरा मिन्नत-कश-ए-साहिल नहीं ।

देखिए क्या हो हमारे शौक़-ए-मंज़िल का मआल
पाँव में ताक़त ब-क़द्र-ए-दूरी-ए-मंज़िल नहीं ।

लाख दिल क़ुर्बान उस चश्म-ए-नदामत-कोश पर
यानी मुझ को आरज़ू-ए-खूँ-बहा-ए-दिल नहीं ।

मरजा-ए-बर्क़-ए-बला है ऐ ‘वफ़ा’ दुनिया-ए-इश्क
हासिल-ए-हसरत यहाँ जुज़ हसरत-ए-हासिल नहीं ।।

मेला राम वफ़ा

Bu-e-gul Baad-e-saba Laai Bahut Der Ke Baad – Salam Sandelvi Ghazal

0
Bu-e-gul Baad-e-saba Laai Bahut Der Ke Baad – Salam Sandelvi Ghazal
4.4 (88%) 5 vote[s]

Salam Sandelvi Ghazal : Bu-e-gul Baad-e-saba Laai Bahut Der Ke Baad

Bu-e-gul baad-e-saba laai bahut der ke baad
mere gulshan mein bahaar aai bahut der ke baad .!

Chhup gaya chaand toh jalwon ki tamanna ubhri
aarzuon ne li angdaai bahut der ke baad .!

Nargisi aankhon mein ye ashk-e-nadaamat tauba
mauj-e-mai sheeshon mein lahraai bahut der ke baad .!

Sehn-e-gulshan mein haseen phool khile the kab se
hum hue khud hi tamaashaai bahut der ke baad .!

Mehr-o-shabnam mein mulaaqaat hui waqt-e-sahar
zindagi maut se takraai bahut der ke baad .!

Mayy-e-gul bant gai asuda labon mein pahle
tishna kamon mein sharaab aai bahut der ke baad .!

Zehn bhatka kiya dasht-e-ghum-e-dauran mein ‘salam’
shab-e-ghum neend mujhe aai bahut der ke baad .!!

Salam Sandelvi

सलाम संदेलवी ग़ज़ल : बू-ए-गुल बाद-ए-सबा लाई बहुत देर के बाद

बू-ए-गुल बाद-ए-सबा लाई बहुत देर के बाद
मेरे गुलशन में बहार आई बहुत देर के बाद ।

छुप गया चाँद तो जल्वों की तमन्ना उभरी
आरज़ूओं ने ली अंगड़ाई बहुत देर के बाद ।

नर्गिसी आँखों में ये अश्क-ए-नदामत तौबा
मौज-ए-मय शीशों में लहराई बहुत देर के बाद ।

सेहन-ए-गुलशन में हसीं फूल खिले थे कब से
हम हुए ख़ुद ही तमाशाई बहुत देर के बाद ।

मेहर-ओ-शबनम में मुलाक़ात हुई वक़्त-ए-सहर
ज़िंदगी मौत से टकराई बहुत देर के बाद ।

मय-ए-गुल बट गई आसूदा लबों में पहले
तिश्ना कामों में शराब आई बहुत देर के बाद ।

ज़ेहन भटका किया दश्त-ए-ग़म-ए-दौराँ में ‘सलाम’
शब-ए-ग़म नींद मुझे आई बहुत देर के बाद ।।

सलाम संदेलवी

Bhool Kar Bhi Na Phir Malega Tu – Adil Mansuri Ghazal

0
Bhool Kar Bhi Na Phir Malega Tu – Adil Mansuri Ghazal
4.3 (86.67%) 3 vote[s]

Adil Mansuri Ghazal : Bhool Kar Bhi Na Phir Malega Tu

Bhool kar bhi na phir malega tu
jaanta hoon yahi karega tu .!

Dekh aage muhib khaayi hai
laut aa warna gir padega tu .!

Dil ki takhti pe naam hai tera
yaan nahin toh kahan rahega tu .!

Mere aangan mein ek paudha hai
phool ban ke mahak uthega tu .!

Raaste mein kayi dukaanen hain
har dukaan par dikhaayi dega tu .!

Maine aankhon se jeb bhar li hai
dekhta hoon kahan chhapega tu .!

Khush rakhengi ye dooriyan tujh ko
kya yun hi muskura sakega tu .!!

Adil Mansuri

आदिल मंसूरी ग़ज़ल : भूल कर भी न फिर मलेगा तू

भूल कर भी न फिर मलेगा तू
जानता हूँ यही करेगा तू ।

देख आगे मुहीब खाई है
लौट आ वर्ना गिर पड़ेगा तू ।

दिल की तख़्ती पे नाम है तेरा
याँ नहीं तो कहाँ रहेगा तू ।

मेरे आँगन में एक पौदा है
फूल बन के महक उठेगा तू ।

रास्ते में कई दुकानें हैं
हर दूकान पर दिखाई देगा तू ।

मैंने आँखों से जेब भर ली है
देखता हूँ कहाँ छपेगा तू ।

ख़ुश रखेंगी ये दूरियाँ तुझ को
क्या यूँ ही मुस्कुरा सकेगा तू ।।

आदिल मंसूरी

Qareeb Aate Hue Aur Door Jaate Hue – Jamal Owaisi Ghazal

0
Qareeb Aate Hue Aur Door Jaate Hue – Jamal Owaisi Ghazal
4.3 (85%) 4 vote[s]

Jamal Owaisi Ghazal : Qareeb Aate Hue Aur Door Jaate Hue

Qareeb aate hue aur door jaate hue
ye kaun log hain be-wajah muskuraate hue .!

Ye lamhe saaz-e-azal se chhalak ke gir gaye thay
tabhi se yun hi musalsal hain gungunaate hue .!

Ek aisi samt jidhar kab se hoo ka aalam hai
main ja raha hoon akela qadam badhaate hue .!

Main kab se dekh raha hoon ajeeb si harakat
mera likha hua kuchh log hain mitaate hue .!

Jo dal ke paas thay un se hai ma’arka darpesh
chala hoon jazbon ki deewar aaj dhaate hue .!!

Jamal Owaisi

जमाल ओवैसी ग़ज़ल : करीब आते हुए और दूर जाते हुए

क़रीब आते हुए और दूर जाते हुए
ये कौन लोग हैं बे-वज्ह मुस्कुराते हुए ।

ये लम्हे साज़-ए-अज़ल से छलक के गिर गए थे
तभी से यूँ ही मुसलसल हैं गुनगुनाते हुए ।

एक ऐसी सम्त जिधर कब से हू का आलम है
मैं जा रहा हूँ अकेला क़दम बढ़ाते हुए ।

मैं कब से देख रहा हूँ अजीब सी हरकत
मेरा लिखा हुआ कुछ लोग हैं मिटाते हुए ।

जो दल के पास थे उन से है मअ’रका दरपेश
चला हूँ जज़्बों की दीवार आज ढाते हुए ।।

जमाल ओवैसी