Home Blog Page 2

Apni Bheegi Hui Palkon Pe Saja Lo Mujh Ko – Naqsh Lyallpuri Ghazal

0
Apni Bheegi Hui Palkon Pe Saja Lo Mujh Ko – Naqsh Lyallpuri Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Naqsh Lyallpuri Ghazal : Apni Bhigi Hui Palkon Pe Saja Lo Mujh Ko

Apni bheegi hui palkon pe saja lo mujh ko
rishta-e-dard samajh kar hi nibha lo mujh ko .!

Choom lete ho jise dekh ke tum aaina
apne chehre ka wahi aks bana lo mujh ko .!

Main hoon mahboob andheron ka mujhe hairat hai
kaise pahchan liya tum ne ujaalo mujh ko .!

Chhaanv bhi dunga dawaaon ke bhi kaam aaunga
neem ka paudha hoon aangan mein laga lo mujh ko .!

Doston sheeshe ka saamaan samajh kar barson
tum ne bartaa hai bahut ab toh sambhalo mujh ko .!

Gaye sooraj ki tarah laut ke aa jaaunga
tum se main rooth gaya hoon toh mana lo mujh ko .!

Ek aaina hoon aey ‘naqsh’ main patthar toh nahin
toot jaaunga na is tarah uchhaalo mujh ko .!!

Naqsh Lyallpuri

अपनी भीगी हुई पलकों पे सजा लो मुझ को : नक़्श लायलपुरी ग़ज़ल

अपनी भीगी हुई पलकों पे सजा लो मुझ को
रिश्ता-ए-दर्द समझ कर ही निभा लो मुझ को ।

चूम लेते हो जिसे देख के तुम आईना
अपने चेहरे का वही अक्स बना लो मुझ को ।

मैं हूँ महबूब अँधेरों का मुझे हैरत है
कैसे पहचान लिया तुम ने उजालो मुझ को ।

छाँव भी दूँगा दवाओं के भी काम आऊँगा
नीम का पौदा हूँ आँगन में लगा लो मुझ को ।

दोस्तों शीशे का सामान समझ कर बरसों
तुम ने बरता है बहुत अब तो सँभालो मुझ को ।

गए सूरज की तरह लौट के आ जाऊँगा
तुम से मैं रूठ गया हूँ तो मना लो मुझ को ।

एक आईना हूँ ऐ ‘नक़्श’ मैं पत्थर तो नहीं
टूट जाऊँगा न इस तरह उछालो मुझ को ।।

नक़्श लायलपुरी

Kisi Dardmand Ki Hoon Sada Kisi Diljale Ki Pukaar Hoon – Mela Ram Wafa Ghazal

0
Kisi Dardmand Ki Hoon Sada Kisi Diljale Ki Pukaar Hoon – Mela Ram Wafa Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Kisi Dard-mand Ki Hun Sada Kisi Dil-jale Ki Pukar Hun

Kisi dard-mand ki hoon sada kisi dil-jale ki pukaar hoon
jo bigad gaya woh naseeb hoon jo ujad gayi woh bahaar hoon .!

Koi mujh pe phool chadhaye kyon koi mujh pe shama jalaye kyon
koi mere paas bhi aaye kyon ki main hasraton ka mazaar hoon .!

Bhala mujh pe dhaayen toh dhaayen kya sitam ab zamaane ki aandhiyan
main bujha hua sa charaagh hoon main mita hua sa ghubaar hoon .!

Kahun kya hai kya meri zindagi ye hai zindagi koi zindagi
woh hai dushman-e-dil-o-jaan mera dil-o-jaan se jis pe nisaar hoon .!

Shab-o-roz lab pe hai aey ‘wafa’ ye duaa ki maut hi de khuda
jo yahi hai mere naseeb mein ki aseer-e-daam-e-bala rahun .!!

Mela Ram Wafa

किसी दर्दमंद की हूँ सदा किसी दिलजले की पुकार हूँ – मेला राम वफ़ा ग़ज़ल

किसी दर्द-मंद की हूँ सदा किसी दिल-जले की पुकार हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गई वो बहार हूँ ।

कोई मुझ पे फूल चढ़ाए क्यूँ कोई मुझ पे शमा जलाए क्यूँ
कोई मेरे पास भी आए क्यूँ कि मैं हसरतों का मज़ार हूँ ।

भला मुझ पे ढाएँ तो ढाएँ क्या सितम अब ज़माने की आँधियाँ
मैं बुझा हुआ सा चराग़ हूँ मैं मिटा हुआ सा ग़ुबार हूँ ।

कहूँ क्या है क्या मेरी ज़िंदगी ये है ज़िंदगी कोई ज़िंदगी
वो है दुश्मन-ए-दिल-ओ-जाँ मिरा दिल-ओ-जाँ से जिस पे निसार हूँ ।

शब-ओ-रोज़ लब पे है ऐ ‘वफ़ा’ ये दुआ कि मौत ही दे ख़ुदा
जो यही है मेरे नसीब में कि असीर-ए-दाम-ए-बला रहूँ ।।

मेला राम वफ़ा

Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahin Likhkha Maine – Anwar Jalalpuri Ghazal

0
Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahin Likhkha Maine – Anwar Jalalpuri Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Anwar Jalalpuri Ghazal : Zulf Ko Abr Ka Tukda Nahin Likha Maine

Zulf ko abr ka tukda nahin likhkha maine
aaj tak koi qasida nahin likhkha maine .!

Jab mukhatab kiya qaatil ko toh qaatil likhkha
lakhnavi ban ke maseeha nahin likhkha maine .!

Maine likhkha hai use maryam o seeta ki tarah
jism ko us ke ajanta nahin likhkha maine .!

Kabhi naqqash bataya kabhi me’amaar kaha
dast-e-fankaar ko kaasa nahin likhkha maine .!

Tu mere paas tha ya teri puraani yaaden
koi ek sher bhi tanha nahin likhkha maine .!

Neend tooti ki ye zaalim mujhe mil jaati hai
zindagi ko kabhi sapna nahin likhkha maine .!

Mera har sher haqeeqat ki hai zinda tasveer
apne ash’aar mein qissa nahin likhkha maine .!!

Anwar Jalalpuri

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिखा मैंने – अनवर जलालपुरी ग़ज़ल

ज़ुल्फ़ को अब्र का टुकड़ा नहीं लिख्खा मैंने
आज तक कोई क़सीदा नहीं लिख्खा मैंने ।

जब मुख़ातब किया क़ातिल को तो क़ातिल लिख्खा
लखनवी बन के मसीहा नहीं लिख्खा मैंने ।

मैंने लिख्खा है उसे मरियम ओ सीता की तरह
जिस्म को उस के अजंता नहीं लिख्खा मैंने ।

कभी नक़्क़ाश बताया कभी मेमार कहा
दस्त-फ़नकार को कासा नहीं लिख्खा मैंने ।

तू मेरे पास था या तेरी पुरानी यादें
कोई इक शेर भी तन्हा नहीं लिख्खा मैंने ।

नींद टूटी कि ये ज़ालिम मुझे मिल जाती है
ज़िंदगी को कभी सपना नहीं लिख्खा मैंने ।

मेरा हर शेर हक़ीक़त की है ज़िंदा तस्वीर
अपने अशआर में क़िस्सा नहीं लिख्खा मैंने ।।

अनवर जलालपुरी

Soch Raha Hoon Ghar Aangan Mein Ek Lagaun Aam Ka Ped – Anwar Jalalpuri Ghazal

0
Soch Raha Hoon Ghar Aangan Mein Ek Lagaun Aam Ka Ped – Anwar Jalalpuri Ghazal
4.4 (88%) 5 vote[s]

 

Soch Raha Hun Ghar Aangan Mein Ek Lagaun Aam Ka Ped

Soch raha hoon ghar aangan mein ek lagaun aam ka ped
khatta khatta meetha meetha yaani tere naam ka ped .!

Ek jogi ne bachpan aur budhaape ko aise samjhaya
woh tha mere aaghaaz ka paudha ye hai mere anjaam ka ped .!

Saare jeevan ki ab is se behtar hogi kya tasveer
bhor ki konpal, subah ke mewe, dhoop ki shaakhen, shaam ka ped .!

Kal tak jiski daal daal par phool masarrat ke khilte the
aaj usi ko sab kahte hain ranj-o-ghum-o-aalaam ka ped .!

Ek aandhi ne sab bachchon se unka saaya chheen liya
chhaanv mein jinki chain bahut tha jo tha bade aaraam ka ped .!

Neem humare ghar ki shobha jaamun se bachpan ka rishta
hum kya jaane kis rangat ka hota hai baadaam ka ped .!!

Anwar Jalalpuri

सोच रहा हूँ घर आँगन में एक लगाऊँ आम का पेड़ 

सोच रहा हूँ घर आँगन में एक लगाऊँ आम का पेड़
खट्टा खट्टा, मीठा मीठा यानी तेरे नाम का पेड़ ।

एक जोगी ने बचपन और बुढ़ापे को ऐसे समझाया
वो था मेरे आग़ाज़ का पौधा ये है मेरे अंजाम का पेड़ ।

सारे जीवन की अब इससे बेहतर होगी क्या तस्वीर
भोर की कोंपल, सुबह के मेवे, धूप की शाख़ें, शाम का पेड़ ।

कल तक जिसकी डाल डाल पर फूल मसर्रत के खिलते थे
आज उसी को सब कहते हैं रंज-ओ-ग़म-ओ-आलम का पेड़ ।

एक आँधी ने सब बच्चों से उनका साया छीन लिया
छाँव में जिनकी चैन बहुत था जो था बड़े आराम का पेड़ ।

नीम हमारे घर की शोभा जामुन से बचपन का रिश्ता
हम क्या जाने किस रंगत का होता है बादाम का पेड़ ।।

अनवर जलालपुरी

Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai – Badar Munir Ghazal

0
Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai – Badar Munir Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Badar Munir Ghazal : Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yahi Kaafi Hai

Dekh lete ho mohabbat se yehi kaafi hai
dil dhadakta hai sahulat se yehi kaafi hai .!

Haal dunyia ke sataaye hue kuchh logon ka
poochh lete ho shararat se yehi kaafi hai .!

Jo bhi raste mein guzarta hai mere pehlu se
dekhta hai teri nisbat se yehi kaafi hai .!

Muddataton se nahin dekha tera jalwa lekin
yaad aa jaate ho shiddat se yehi kaafi hai .!

Saari duniya se ulajhte hain lekin tera kaha
maan jaate hain sharafat se yehi kaafi hai .!

Kya hua hum jo mayassar jo zar-o-maal nahin
kat rahi hai badi izzat se yehi kaafi hai .!

Aaj ke ahad taghaful mein kisi dar pe ‘munir’
koi aa jaaye zaroorat se yehi kaafi hai .!!

Badar Munir

बद्र मुनीर ग़ज़ल : देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है

देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है
दिल धड़कता हैं सहूलत से यही काफी है ।

हाल दुनिया के सताये हुए कुछ लोगों का
पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है ।

जो भी रास्ते में गुज़रता हैं मेरे पहलू से
देखता हैं तेरी निस्बत से यही काफी है ।

मुद्दतों से नहीं देखा तेरा जलवा लेकिन
याद आ जाते हो शिद्दत से यही काफी है ।

सारी दुनिया से उलझते हैं लेकिन तेरा कहा
मान जाते हैं शराफत से यही काफी है ।

क्या हुआ जो मय्यस्सर ज़र-ओ-माल नहीं
कट रही हैं बड़ी इज़्ज़त से यही काफी है ।

आज के अहद तग़ाफ़ुल में किसी दर पे ‘मुनीर’
कोई आ जाए ज़रुरत से यही काफी है । ।

बद्र मुनीर

Aakhiri Tees Aazmane Ko – Ada Jafri Ghazal

0
Aakhiri Tees Aazmane Ko – Ada Jafri Ghazal
4.3 (85%) 4 vote[s]

Ada Jafri Ghazal : Aakhiri Tis Aazmane Ko

Aakhiri tees aazmane ko
jii toh chaha tha muskurane ko .!

Yaad itni bhi sakht-jaan toh nahin
ek gharaunda raha hai dhaane ko .!

Sang-rezo mein dhal gaye aansu
log hanste rahe dikhaane ko .!

Zakhm-e-naghma bhi lau toh deta hai
ek diya rah gaya jalaane ko .!

Jalne waale toh jal bujhe aakhir
kaun deta khabar zamaane ko .!

Kitne majboor ho gaye honge
an-kahi baat munh pe laane ko .!

Khul ke hansna toh sab ko aata hai
log tarse hain ek bahaane ko .!

Reza reza bikhar gaya insaan
dil ki veeraniyan jataane ko .!

Hasraton ki panaah-gaahon mein
kya thikaane hain sar chhupaane ko .!

Haath kaanton se kar liye zakhmi
phuul baalon mein ek sajaane ko .!

Aas ki baat ho ki saans ‘ada’
ye khilaune the toot jaane ko .!!

Ada Jafri

अदा जाफरी ग़ज़ल : आख़िरी टीस आज़माने को

आख़िरी टीस आज़माने को
जी तो चाहा था मुस्कुराने को ।

याद इतनी भी सख़्त-जाँ तो नहीं
एक घरौंदा रहा है ढाने को ।

संग-रेज़ो में ढल गए आँसू
लोग हँसते रहे दिखाने को ।

ज़ख़्म-ए-नग़्मा भी लौ तो देता है
एक दिया रह गया जलाने को ।

जलने वाले तो जल बुझे आख़िर
कौन देता ख़बर ज़माने को ।

कितने मजबूर हो गए होंगे
अन-कही बात मुँह पे लाने को ।

खुल के हँसना तो सब को आता है
लोग तरसे हैं एक बहाने को ।

रेज़ा रेज़ा बिखर गया इंसान
दिल की वीरानियाँ जताने को ।

हसरतों की पनाह-गाहों में
क्या ठिकाने हैं सर छुपाने को ।

हाथ काँटों से कर लिए ज़ख़्मी
फूल बालों में एक सजाने को ।

आस की बात हो कि साँस ‘अदा’
ये खिलौने थे टूट जाने को ।।

अदा जाफरी

Junoon Sar Se Utar Gaya Hai – Siraj Faisal Khan Ghazal

0
Junoon Sar Se Utar Gaya Hai – Siraj Faisal Khan Ghazal
4.2 (84%) 5 vote[s]

Siraj Faisal Khan Ghazal : Junun Sar Se Utar Gaya Hai

Junoon sar se utar gaya hai
wajood lekin bikhar gaya hai .!

Bahut khasara hai aashiqi mein
tamaam ilm-o-hunar gaya hai .!

Main aur hi shakhs hoon koi ab
jo shakhs pahle tha mar gaya hai .!

Bahut kada tha woh waqt mujh par
woh waqt lekin guzar gaya hai .!

Siraj’ ek khush-mizaaj chehra
mujhe udaasi se bhar gaya hai .!!

Siraj Faisal Khan

सिराज फ़ैसल ख़ान ग़ज़ल : जुनून सर से उतर गया है

जुनून सर से उतर गया है
वजूद लेकिन बिखर गया है ।

बहुत ख़सारा है आशिक़ी में
तमाम इल्म-ओ-हुनर गया है ।

मैं और ही शख़्स हूँ कोई अब
जो शख़्स पहले था मर गया है ।

बहुत कड़ा था वो वक़्त मुझ पर
वो वक़्त लेकिन गुज़र गया है ।

सिराज’ एक ख़ुश-मिज़ाज चेहरा
मुझे उदासी से भर गया है ।।

सिराज फ़ैसल ख़ान

Aaj Tak Us Ki Mohabbat Ka Nasha Taari Hai – Shahzad Ahmad Ghazal

0
Aaj Tak Us Ki Mohabbat Ka Nasha Taari Hai – Shahzad Ahmad Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Shahzad Ahmad Ghazal : Aaj Tak Uski Mohabbat Ka Nasha Tari Hai

Aaj tak us ki mohabbat ka nasha taari hai
phool baaqi nahin khushbu ka safar jaari hai .!

Sehr lagta hai paseene mein nahaya hua jism
ye ajab neend mein doobi hui bedaari hai .!

Aaj ka phool teri kokh se zaahir hoga
shaakh-e-dil khushk na ho ab ke teri baari hai .!

Dhyan bhi us ka hai milte bhi nahin hain us se
jism se bair hai saaye se wafa-dari hai .!

Dil ko tanhaai ka ehsaas bhi baaqi na raha
woh bhi dhundla gayi jo shakl bahut pyaari hai .!

Is tag-o-taaz mein toote hain sitaare kitne
aasmaan jeet saka hai na zameen haari hai .!

Koi aaya hai zara aankh toh kholo ‘shahzad’
abhi jaage the abhi sone ki tayyaari hai .!!

Shahzad Ahmad

शहजाद अहमद : आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है

आज तक उस की मोहब्बत का नशा तारी है
फूल बाक़ी नहीं ख़ुश्बू का सफ़र जारी है ।

सेहर लगता है पसीने में नहाया हुआ जिस्म
ये अजब नींद में डूबी हुई बेदारी है ।

आज का फूल तेरी कोख से ज़ाहिर होगा
शाख़-ए-दिल ख़ुश्क न हो अब के तेरी बारी है ।

ध्यान भी उस का है मिलते भी नहीं हैं उस से
जिस्म से बैर है साए से वफ़ा-दारी है ।

दिल को तन्हाई का एहसास भी बाक़ी न रहा
वो भी धुँदला गई जो शक्ल बहुत प्यारी है ।

इस तग-ओ-ताज़ में टूटे हैं सितारे कितने
आसमाँ जीत सका है न ज़मीं हारी है ।

कोई आया है ज़रा आँख तो खोलो ‘शहज़ाद’
अभी जागे थे अभी सोने की तय्यारी है ।।

शहजाद अहमद

Guzarne Hi Na Di Woh Raat Maine – Shahzad Ahmad Ghazal

0
Guzarne Hi Na Di Woh Raat Maine – Shahzad Ahmad Ghazal
4.7 (93.33%) 3 vote[s]

Shahzad Ahmad Ghazal : Guzarne Hi Na Di Wo Raat Maine

Guzarne hi na di woh raat maine
ghadi par rakh diya tha haath maine .!

Falak ki rok di thi maine gardish
badal daale the sab haalaat maine .!

Falak kashkol le ke aa gaya tha
sitaare kar liye khairaat maine .!!

Shazad Ahmad

शहजाद अहमद ग़ज़ल : गुज़रने ही न दी वो रात मैंने

गुज़रने ही न दी वो रात मैंने
घड़ी पर रख दिया था हाथ मैंने ।

फ़लक की रोक दी थी मैंने गर्दिश
बदल डाले थे सब हालात मैंने ।

फ़लक कशकोल लेके आ गया था
सितारे कर दिए खैरात मैंने ।।

शहजाद अहमद

Ameer-e-Shahar Se Mil Kar Sazayen Milti Hain – Haseeb Soz Ghazal

0
Ameer-e-Shahar Se Mil Kar Sazayen Milti Hain – Haseeb Soz Ghazal
4.5 (90%) 4 vote[s]

Haseeb Soz Ghazal : Amir-e-Shahr Se Mil Kar Sazaen Milti Hain

Ameer-e-shahar se mil kar sazayen milti hain
is haspataal mein naqli davaayen milti hain .!

Hum ek party mil kar chalo banaate hain
ki teri meri bahut si khataayen milti hain .!

Purani dilli mein dil ka lagana theek nahin
na dhoop aur na taaza hawaayen milti hain .!

Ab un ka naam-o-nasab doosre bataate hain
urooj milte hi kya kya adaayen milti hain .!

Kisi ghareeb ki imdaad kar ke dekh kabhi
zara se kaam ki kitni duaayen milti hain .!!

Haseeb Soz

हसीब सोज़ ग़ज़ल : अमीर-ए-शहर से मिल कर सज़ाएँ मिलती हैं

अमीर-ए-शहर से मिल कर सज़ाएँ मिलती हैं
इस हस्पताल में नक़ली दवाएँ मिलती हैं ।

हम एक पार्टी मिल कर चलो बनाते हैं
कि तेरी मेरी बहुत सी ख़ताएँ मिलती हैं ।

पुरानी दिल्ली में दिल का लगाना ठीक नहीं
न धूप और न ताज़ा हवाएँ मिलती हैं ।

अब उन का नाम-ओ-नसब दूसरे बताते हैं
उरूज मिलते ही क्या क्या अदाएँ मिलती हैं ।

किसी ग़रीब की इमदाद कर के देख कभी
ज़रा से काम की कितनी दुआएँ मिलती हैं ।।

हसीब सोज़