सफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे – राहत इन्दौरी

5.0 02 सफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे, चले चलो कि जहाँ तक ये आसमान रहे. ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल, मज़ा तो तब है कि पैरों में कुछ थकान रहे. वो शख्स मुझ को कोई जालसाज़ लगता है, तुम उसको दोस्त समझते हो फिर भी ध्यान रहे. …

Full Shayariसफ़र की हद है वहां तक कि कुछ निशान रहे – राहत इन्दौरी

Saans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai — Poem by Gulzar Sahab

4.6 05 Saans lena bhi kaisi aadat hai, jiye jaana bhi kya rawaayat hai.. Koi aahat nahin hai badan mein kahin, koi saaya nahin hai aankhon mein.. Paaon be-hiss hain chalte rehte hain, ek safar hai jo behta rehta hai.. Kitne barson se, kitni sadiyon se, Jiye jaate hain.. Jiye jaate hain.. Aadat’en bhi ajeeb …

Full ShayariSaans Lena Bhi Kaisi Aadat Hai — Poem by Gulzar Sahab