Nahin Ho Tum To Aisa Lag Raha Hai – Fehmi Badayuni Ghazal

 

Fehmi Badayuni – Nahi Ho Tum Toh Aisa Lag Raha Hai

Nahin ho tum toh aisa lag raha hai
ki jaise shahar mein curfew laga hai.

Mere saaye mein uska naqsh-e-paa hai
bada ehsaan mujh par dhoop ka hai.

Koi barbaad ho kar ja chuka hai
koi barbaad hona chahta hai.

Lahoo aankhon mein aa kar chhup gaya hai
na jaane shahar-e-dil mein kya hua hai.

Kati hai umar bas ye sochne mein
mere baare mein woh kya sochta hai.

Baraaye naam hain un se marasim
baraaye naam jeena pad raha hai.

Sitaare jagmagaate ja rahe hain
khuda apna qaseeda likh raha hai.

Gulon ki baaten chhup kar sun raha hoon
tumhara zikr achchha lag raha hai. !!

Fehmi Badayuni

फ़हमी बदायूनी ग़ज़ल : नहीं हो तुम तो ऐसा लग रहा है

नहीं हो तुम तो ऐसा लग रहा है
कि जैसे शहर में कर्फ़्यू लगा है.

मेरे साए में उस का नक़्श-ए-पा है
बड़ा एहसान मुझ पर धूप का है.

कोई बर्बाद हो कर जा चुका है
कोई बर्बाद होना चाहता है.

लहू आँखों में आ कर छुप गया है
न जाने शहर-ए-दिल में क्या हुआ है.

कटी है उम्र बस ये सोचने में
मेरे बारे में वो क्या सोचता है.

बराए नाम हैं उन से मरासिम
बराए नाम जीना पड़ रहा है.

सितारे जगमगाते जा रहे हैं
ख़ुदा अपना क़सीदा लिख रहा है.

गुलों की बातें छुप कर सुन रहा हूँ
तुम्हारा ज़िक्र अच्छा लग रहा है. !!

फ़हमी बदायूनी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment