Milan Ki Saat Ko Is Tarah Se Amar Kiya Hai – Aanis Moeen Ghazal

Milan Ki Saat Ko Is Tarah Se Amar Kiya Hai 

Milan ki saat ko is tarah se amar kiya hai
tumhari yaadon ke saath tanha safar kiya hai .!

Suna hai us rut ko dekh kar tum bhi ro pade the
suna hai baarish ne pattharon par asar kiya hai .!

Saleeb ka baar bhi uthao tamaam jeewan
ye lab-kushaai ka jurm tum ne agar kiya hai .!

Tumhein khabar thi haqeeqaten talkh hain jabhi toh
tumhari aankhon ne khwaab ko mo’atabar kiya hai .!

Ghutan badhi hai toh phir usi ko sadaayen di hain
ki jis hawa ne har ek shajar be-samar kiya hai .!

Hai tere andar basi hui ek aur duniya
magar kabhi tune itna lamba safar kiya hai .!

Mere hi dum se toh raunaqen tere shehar mein thin
mere hi qadmon ne dasht ko rah-guzar kiya hai .!

Tujhe khabar kya mere labon ki khamoshiyon ne
tere fasaane ko kis qadar mukhtasar kiya hai .!

Bahut si aankhon mein teergi ghar bana chuki hai
bahut si aankhon ne intezaar-e-sahar kiya hai .!!

Aanis Moeen

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है – आनिस मुईन ग़ज़ल

मिलन की साअत को इस तरह से अमर किया है
तुम्हारी यादों के साथ तन्हा सफ़र किया है ।

सुना है उस रुत को देख कर तुम भी रो पड़े थे
सुना है बारिश ने पत्थरों पर असर किया है ।

सलीब का बार भी उठाओ तमाम जीवन
ये लब-कुशाई का जुर्म तुम ने अगर किया है ।

तुम्हें ख़बर थी हक़ीक़तें तल्ख़ हैं जभी तो
तुम्हारी आँखों ने ख़्वाब को मो’तबर किया है ।

घुटन बढ़ी है तो फिर उसी को सदाएँ दी हैं
कि जिस हवा ने हर इक शजर बे-समर किया है ।

है तेरे अंदर बसी हुई एक और दुनिया
मगर कभी तूने इतना लम्बा सफ़र किया है

मेरे ही दम से तो रौनक़ें तेरे शहर में थीं
मेरे ही क़दमों ने दश्त को रह-गुज़र किया है ।

तुझे ख़बर क्या मेरे लबों की ख़मोशियों ने
तेरे फ़साने को किस क़दर मुख़्तसर किया है ।

बहुत सी आँखों में तीरगी घर बना चुकी है
बहुत सी आँखों ने इंतज़ार-ए-सहर किया है ।।

आनिस मुईन

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment