Kya Jaaniye Kis Baat Pe Maghrur Rahi Hun – Ada Jafri Ghazal

Kya Jaaniye Kis Baat Pe Maghroor Rahi Hoon – Ada Jafri Ghazal

Kya jaaniye kis baat pe maghroor rahi hoon
kahne ko toh jis raah chalaya hai chali hoon .!

Tum paas nahin ho toh ajab haal hai dil ka
yun jaise main kuchh rakh ke kahin bhool gai hoon .!

Phoolon ke katoron se chhalak padti hai shabnam
hansne ko tere peechhe bhi sau bar hansi hoon .!

Tere liye taqdeer meri jumbish-e-abru
aur main tera ima-e-nazar dekh rahi hoon .!

Sadiyon se mere paanv tale jannat-e-insan
main jannat-e-insan ka pata poochh rahi hoon .!

Dil ko toh ye kahte hain ki bas qatra-e-khoon hai
kis aas pe aey sang-e-sar-e-raah chali hoon .!

Jis hath ki taqdees ne gulshan ko sanwara
us hath ki taqdeer pe aazurda rahi hoon .!

Qismat ke khilaune hain ujala ki andhera
dil shola-talab tha so bahar-haal jali hoon .!!

Ada Jafri

क्या जानिए किस बात पे मग़रूर रही हूँ – अदा जाफ़री ग़ज़ल

क्या जानिए किस बात पे मग़रूर रही हूँ
कहने को तो जिस राह चलाया है चली हूँ ।

तुम पास नहीं हो तो अजब हाल है दिल का
यूँ जैसे मैं कुछ रख के कहीं भूल गई हूँ ।

फूलों के कटोरों से छलक पड़ती है शबनम
हँसने को तेरे पीछे भी सौ बार हँसी हूँ ।

तेरे लिए तक़दीर मेरी जुम्बिश-ए-अबरू
और मैं तेरा ईमा-ए-नज़र देख रही हूँ ।

सदियों से मेरे पाँव तले जन्नत-ए-इंसाँ
मैं जन्नत-ए-इंसाँ का पता पूछ रही हूँ ।

दिल को तो ये कहते हैं कि बस क़तरा-ए-ख़ूँ है
किस आस पे ऐ संग-ए-सर-ए-राह चली हूँ ।

जिस हाथ की तक़्दीस ने गुलशन को सँवारा
उस हाथ की तक़दीर पे आज़ुर्दा रही हूँ ।

क़िस्मत के खिलौने हैं उजाला कि अँधेरा
दिल शो’ला-तलब था सो बहर-हाल जली हूँ ।।

अदा जाफ़री

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment