Kuchh Is Tarah Se Milen Hum Ki Baat Rah Jaaye – Shakeel Azmi Ghazal

Shakeel Azmi Ghazal : Kuchh Is Tarah Se Milen Hum Ki Baat Rah Jaaye

shakeel azmi on gulzariyat

Kuchh is tarah se milen hum ki baat rah jaaye
bichhad bhi jaayen toh haathon mein haath rah jaaye .!

Ab is ke baad ka mausam hai sardiyon waala
tere badan ka koi lams saath rah jaaye .!

Main so raha hoon tere khwaab dekhne ke liye
ye aarzoo hai ki aankhon mein raat rah jaaye .!

Main doob jaaun samundar ki tez lahron mein
kinaare rakkhi hui kaayenaat rah jaaye .!

‘Shakeel’ mujh ko samete koi zamaane tak
bikhar ke chaaron taraf meri zaat rah jaaye .!

Shakeel Azmi

शकील आज़मी ग़ज़ल : कुछ इस तरह से मिलें हम कि बात रह जाए

shakeel azmi on gulzariyat

कुछ इस तरह से मिलें हम कि बात रह जाए
बिछड़ भी जाएँ तो हाथों में हाथ रह जाए ।

अब इस के बाद का मौसम है सर्दियों वाला
तेरे बदन का कोई लम्स साथ रह जाए ।

मैं सो रहा हूँ तेरे ख़्वाब देखने के लिए
ये आरज़ू है कि आँखों में रात रह जाए ।

मैं डूब जाऊँ समुंदर की तेज़ लहरों में
किनारे रक्खी हुई काएनात रह जाए ।

‘शकील’ मुझ को समेटे कोई ज़माने तक
बिखर के चारों तरफ़ मेरी ज़ात रह जाए ।।

शकील आज़मी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment