Kitne Hi Ped Khauf-e-khizan Se Ujad Gaye – Aanis Moeen Ghazal

Aanis Moeen Ghazal : Kitne Hi Ped Khauf-e-khizan Se Ujad Gaye

Kitne hi ped khauf-e-khizan se ujad gaye
kuchh barg-e-sabz waqt se pahle hi jhad gaye.!

Kuchh aadhiyan bhi apnī muaavin safar mein thi
thak kar padaav daala toh kheme ukhad gaye.!

Ab ke meri shikast mein un ka bhi haath hai
woh teer jo kamaan ke panje mein gad gaye.!

Suljhi thi gutthiyan meri daanist mein magar
haasil ye hai ki zakhmon ke taanke ukhad gaye.!

Nirvaan kya bas ab toh amaan ki talaash hai
tahzeeb phailne lagi jangal sukad gaye.!

Is band ghar mein kaise kahun kya tilism hai
khole the jitne qufl woh honthon pe pad gaye.!

Be-saltanat hui hain kayi oonchi gardanen
baahar saron ke dast-e-tasallut se dhad gaye.!!

Aanis Moeen

आनिस मोईन ग़ज़ल : कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए

कितने ही पेड़ ख़ौफ़-ए-ख़िज़ाँ से उजड़ गए
कुछ बर्ग-ए-सब्ज़ वक़्त से पहले ही झड़ गए ।

कुछ आँधियाँ भी अपनी मुआविन सफ़र में थीं
थक कर पड़ाव डाला तो ख़ेमे उखड़ गए ।

अब के मिरी शिकस्त में उन का भी हाथ है
वो तीर जो कमान के पंजे में गड़ गए ।

सुलझी थीं गुत्थियाँ मिरी दानिस्त में मगर
हासिल ये है कि ज़ख़्मों के टाँके उखड़ गए ।

निरवान क्या बस अब तो अमाँ की तलाश है
तहज़ीब फैलने लगी जंगल सुकड़ गए ।

इस बंद घर में कैसे कहूँ क्या तिलिस्म है
खोले थे जितने क़ुफ़्ल वो होंटों पे पड़ गए ।

बे-सल्तनत हुई हैं कई ऊँची गर्दनें
बाहर सरों के दस्त-ए-तसल्लुत से धड़ गए ।।

आनिस मोईन

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment