Kisi Dardmand Ki Hoon Sada Kisi Diljale Ki Pukaar Hoon – Mela Ram Wafa Ghazal

Kisi Dard-mand Ki Hun Sada Kisi Dil-jale Ki Pukar Hun

Kisi dard-mand ki hoon sada kisi dil-jale ki pukaar hoon
jo bigad gaya woh naseeb hoon jo ujad gayi woh bahaar hoon .!

Koi mujh pe phool chadhaye kyon koi mujh pe shama jalaye kyon
koi mere paas bhi aaye kyon ki main hasraton ka mazaar hoon .!

Bhala mujh pe dhaayen toh dhaayen kya sitam ab zamaane ki aandhiyan
main bujha hua sa charaagh hoon main mita hua sa ghubaar hoon .!

Kahun kya hai kya meri zindagi ye hai zindagi koi zindagi
woh hai dushman-e-dil-o-jaan mera dil-o-jaan se jis pe nisaar hoon .!

Shab-o-roz lab pe hai aey ‘wafa’ ye duaa ki maut hi de khuda
jo yahi hai mere naseeb mein ki aseer-e-daam-e-bala rahun .!!

Mela Ram Wafa

किसी दर्दमंद की हूँ सदा किसी दिलजले की पुकार हूँ – मेला राम वफ़ा ग़ज़ल

किसी दर्द-मंद की हूँ सदा किसी दिल-जले की पुकार हूँ
जो बिगड़ गया वो नसीब हूँ जो उजड़ गई वो बहार हूँ ।

कोई मुझ पे फूल चढ़ाए क्यूँ कोई मुझ पे शमा जलाए क्यूँ
कोई मेरे पास भी आए क्यूँ कि मैं हसरतों का मज़ार हूँ ।

भला मुझ पे ढाएँ तो ढाएँ क्या सितम अब ज़माने की आँधियाँ
मैं बुझा हुआ सा चराग़ हूँ मैं मिटा हुआ सा ग़ुबार हूँ ।

कहूँ क्या है क्या मेरी ज़िंदगी ये है ज़िंदगी कोई ज़िंदगी
वो है दुश्मन-ए-दिल-ओ-जाँ मिरा दिल-ओ-जाँ से जिस पे निसार हूँ ।

शब-ओ-रोज़ लब पे है ऐ ‘वफ़ा’ ये दुआ कि मौत ही दे ख़ुदा
जो यही है मेरे नसीब में कि असीर-ए-दाम-ए-बला रहूँ ।।

मेला राम वफ़ा

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment