Kaun Kahta Hai Ki Mar Jaane Se Kuchh Haasil Nahin – Mela Ram Wafa Ghazal

Mela Ram Wafa Ghazal : Kaun Kahta Hai Ki Mar Jaane Se Kuchh Haasil Nahin

Kaun kahta hai ki mar jaane se kuchh haasil nahin
zindagi us ki hai mar jaana jise mushkil nahin .!

Haan ye saara khel parwaanon ki jaan-bazi ka hai
shaam-e-raushan par madaar-e-girya-e-mahfil nahin .!

Aam hi karna padega un ko faiz-e-iltifaat
ghair hargiz iltifaat-e-khaas ke qaabil nahin .!

Muntakhab main hi hua mashq-e-taghaful ke liye
woh taghaful-kesh meri yaad se ghaafil nahin .!

Halqa-e-girdaab hai gahvara-e-ishrat mujhe
zauq-e-asaaish mera minnat-kash-e-saahil nahin .!

Dekhiye kya ho humare shauq-e-manzil ka ma’aal
paanv mein taaqat ba-qadr-e-doori-e-manzil nahin .!

Laakh dil qurbaan us chashm-e-nadaamat-kosh par
yaani mujh ko aarzu-e-khoon-baha-e-dil nahin .!

Marja-e-barq-e-bala hai aey ‘wafa’ duniya-e-ishq
haasil-e-hasrat yahan juz hasrat-e-haasil nahin .!!

Mela Ram Wafa

मेला राम वफ़ा ग़ज़ल : कौन कहता है कि मर जाने से कुछ हासिल नहीं

कौन कहता है कि मर जाने से कुछ हासिल नहीं
ज़िंदगी उस की है मर जाना जिसे मुश्किल नहीं ।

हाँ ये सारा खेल परवानों की जाँ-बाज़ी का है
शम-ए-रौशन पर मदार-ए-गिर्या-ए-महफ़िल नहीं ।

आम ही करना पड़ेगा उन को फ़ैज-ए-इल्तिफ़ात
ग़ैर हरगिज़ इल्तिफ़ात-ए-ख़ास के क़ाबिल नहीं ।

मुंतख़ब मैं ही हुआ मश्क-ए-तग़ाफुल के लिए
वो तग़ाफ़ुल-केश मेरी याद से ग़ाफ़िल नहीं ।

हल्क़ा-ए-गिर्दाब है गहवारा-ए-इशरत मुझे
ज़ौक-ए-आसाइश मिरा मिन्नत-कश-ए-साहिल नहीं ।

देखिए क्या हो हमारे शौक़-ए-मंज़िल का मआल
पाँव में ताक़त ब-क़द्र-ए-दूरी-ए-मंज़िल नहीं ।

लाख दिल क़ुर्बान उस चश्म-ए-नदामत-कोश पर
यानी मुझ को आरज़ू-ए-खूँ-बहा-ए-दिल नहीं ।

मरजा-ए-बर्क़-ए-बला है ऐ ‘वफ़ा’ दुनिया-ए-इश्क
हासिल-ए-हसरत यहाँ जुज़ हसरत-ए-हासिल नहीं ।।

मेला राम वफ़ा

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment