Junoon Sar Se Utar Gaya Hai – Siraj Faisal Khan Ghazal

Siraj Faisal Khan Ghazal : Junun Sar Se Utar Gaya Hai

Junoon sar se utar gaya hai
wajood lekin bikhar gaya hai .!

Bahut khasara hai aashiqi mein
tamaam ilm-o-hunar gaya hai .!

Main aur hi shakhs hoon koi ab
jo shakhs pahle tha mar gaya hai .!

Bahut kada tha woh waqt mujh par
woh waqt lekin guzar gaya hai .!

Siraj’ ek khush-mizaaj chehra
mujhe udaasi se bhar gaya hai .!!

Siraj Faisal Khan

सिराज फ़ैसल ख़ान ग़ज़ल : जुनून सर से उतर गया है

जुनून सर से उतर गया है
वजूद लेकिन बिखर गया है ।

बहुत ख़सारा है आशिक़ी में
तमाम इल्म-ओ-हुनर गया है ।

मैं और ही शख़्स हूँ कोई अब
जो शख़्स पहले था मर गया है ।

बहुत कड़ा था वो वक़्त मुझ पर
वो वक़्त लेकिन गुज़र गया है ।

सिराज’ एक ख़ुश-मिज़ाज चेहरा
मुझे उदासी से भर गया है ।।

सिराज फ़ैसल ख़ान

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment