Jo Mujh Mein Chhupa Mera Gala Ghont Raha Hai – Fahmida Riaz Ghazal

Fahmida Riaz Ghazal : Jo Mujh Mein Chhupa Mera Gala Ghont Raha Hai

fahmida riaz gulzariyat

Jo Mujh Mein Chhupa Mera Gala Ghont Raha Hai 
Ya Woh Koi Iblis Hai Ya Mera Khuda Hai .!

Jab Sar Mein Nahin Ishq Toh Chehre Pe Chamak Hai
Ye Nakhl Khizan Aayi To Shadab Hua Hai .!

Kya Mera Ziyan Hai Jo Muqaabil Tere Aa Jaaun
Ye Amr Toh Maaloom Ki Tu Mujh Se Bada Hai .!

Main Banda-o-naachaar Ki Sairab Na Ho Paaun
Aey Zaahir-o-maujood Mera Jism Dua Hai .!

Haan Us Ke Taaqub Se Mere Dil Meein Hai Inkaar
Woh Shakhs Kisi Ko Na Milega Na Mila Hai .!

Kyon Noor-e-abad Dil Mein Guzar Kar Nahin Paata
Seene Ki Siyaahi Se Naya Harf Likha Hai .!!

Fahmida Riaz

फ़हमीदा रियाज़ ग़ज़ल : जो मुझ में छुपा मेरा गला घोंट रहा है

fahmida riaz gulzariyat

जो मुझ में छुपा मेरा गला घोंट रहा है
या वो कोई इबलीस है या मेरा ख़ुदा है ।

जब सर में नहीं इश्क़ तो चेहरे पे चमक है
ये नख़्ल ख़िज़ाँ आई तो शादाब हुआ है ।

क्या मेरा ज़ियाँ है जो मुक़ाबिल तिरे आ जाऊँ
ये अम्र तो मालूम कि तू मुझ से बड़ा है ।

मैं बंदा-ओ-नाचार कि सैराब न हो पाऊँ
ऐ ज़ाहिर-ओ-मौजूद मिरा जिस्म दुआ है ।

हाँ उस के तआक़ुब से मिरे दिल में है इंकार
वो शख़्स किसी को न मिलेगा न मिला है ।

क्यूँ नूर-ए-अबद दिल में गुज़र कर नहीं पाता
सीने की सियाही से नया हर्फ़ लिखा है ।।

फ़हमीदा रियाज़

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment