Jeevan Ko Dukh, Dukh Ko Aag Aur Aag Ko Paani Kehte – Aanis Moeen

Jeevan ko dukh, dukh ko aag aur aag ko paani kehte,
bacbhe lekin soye hue the kis se kahaani kehte.

Sach kehne ka housla tumne chheen liya hai warna,
shehar mein phaili viraani ko sab viraani kehte.

Waqt guzarta jaata aur ye zakhm hare rehte toh,
badi hifaazat se rakhi hai teri nishaani kehte.

Woh toh shayad dono ka dukh ek jaisa tha warna,
hum bhi patthar maarte tujh ko aur deewani kehte.

Tabdeeli sacchaai hai isko maante lekin kaise,
aaine ko dekh ke ek tasveer puraani kehte.

Tera lehja apnaaya ab dil mein hasrat si hai,
apni koi baat kabhi toh apni zubaani kehte.

Chup reh kar izhaar kiya hai kah sakte toh ‘aanis,
ek elaahida tarz-e sukhan ka tujh ko baani kehte ..!!!

_____________________________________________________________

जीवन को दुख, दुख को आग और आग को पानी कहते – आनिस मुईन

जीवन को दुख, दुख को आग और आग को पानी कहते,
बच्चे लेकिन सोए हुए थे किस से कहानी कहते !

सच कहने का हौसला तुम ने छीन लिया है वर्ना,
शहर में फैली वीरानी को सब वीरानी कहते !

वक़्त गुज़रता जाता और ये ज़ख़्म हरे रहते तो,
बड़ी हिफ़ाज़त से रक्खी है तेरी निशानी कहते !

वो तो शायद दोनों का दुख इक जैसा था वर्ना,
हम भी पत्थर मारते तुझ को और दीवानी कहते !

तब्दीली सच्चाई है इस को मानते लेकिन कैसे,
आईने को देख के इक तस्वीर पुरानी कहते !

तेरा लहजा अपनाया अब दिल में हसरत सी है,
अपनी कोई बात कभी तो अपनी ज़बानी कहते !

चुप रह कर इज़हार किया है कह सकते तो ‘आनिस’
एक अलाहिदा तर्ज़-ए-सुख़न का तुझ को बानी कहते ..!!

 

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment