Jab Main Uske Gaanv Se Bahar Nikla Tha : Aslam Kolsari Ghazal

Aslam Kolsari — Jab Main Uske Gaon Se Bahar Nikla Tha

Jab main uske gaanv se bahar nikla tha
har raste ne mera rasta roka tha.

Mujh ko yaad hai jab us ghar mein aag lagi
oopar se baadal ka tukda guzra tha.

Shaam hui aur sooraj ne ek hichki li
bas phir kya tha koson tak sannata tha.

Maine apne saare aansu baḳhsh diye
bachche ne toh ek hi paisa manga tha.

Shahar mein aa kar padhne wale bhool gaye
kis ki maa ne kitna zevar becha tha. !!

असलम कोलसरी ग़ज़ल : जब मैं उस के गाँव से बाहर निकला था

जब मैं उस के गाँव से बाहर निकला था
हर रस्ते ने मेरा रस्ता रोका था.

मुझ को याद है जब उस घर में आग लगी
ऊपर से बादल का टुकड़ा गुज़रा था.

शाम हुई और सूरज ने इक हिचकी ली
बस फिर क्या था कोसों तक सन्नाटा था.

मैं ने अपने सारे आँसू बख़्श दिए
बच्चे ने तो एक ही पैसा माँगा था.

शहर में आ कर पढ़ने वाले भूल गए
किस की माँ ने कितना ज़ेवर बेचा था. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment