Jab Dard Mohabbat Ka Mere Paas Nahin Tha – Naqsh Lyallpuri Ghazal

Naqsh Lyallpuri Ghazal : Jab Dard Mohabbat Ka Mere Pas Nahin Tha

Jab dard mohabbat ka mere paas nahin tha
main kaun hoon kya hoon mujhe ehsaas nahin tha .!

Toota mera har khwaab hua jab se juda woh
itnn toh kabhi dil mera be-aas nahin tha .!

Aaya jo mere paas mere honth bhigone
woh ret ka dariya tha meri pyaas nahin tha .!

Baitha hoon main tanhaai ko seene se laga ke
is haal mein jeena toh mujhe raas nahin tha .!

Kab jaan saka dard mera dekhne waala
chehra mere haalaat ka akkas nahin tha .!

Kyon zahar bana us ka tabassum mere haq mein
aey ‘naqsh’ woh ek dost tha almaas nahin tha .!!

Naqsh Lyallpuri

नक़्श लायलपुरी ग़ज़ल : जब दर्द मोहब्बत का मेरे पास नहीं था

जब दर्द मोहब्बत का मेरे पास नहीं था
मैं कौन हूँ क्या हूँ मुझे एहसास नहीं था।

टूटा मेरे हर ख़्वाब हुआ जब से जुदा वो
इतना तो कभी दिल मेरा बे-आस नहीं था।

आया जो मेरे पास मेरे होंट भिगोने
वो रेत का दरिया था मेरी प्यास नहीं था।

बैठा हूँ मैं तन्हाई को सीने से लगा के
इस हाल में जीना तो मुझे रास नहीं था।

कब जान सका दर्द मेरा देखने वाला
चेहरा मेरे हालात का अक्कास नहीं था।

क्यूँ ज़हर बना उस का तबस्सुम मेरे हक़ में
ऐ ‘नक़्श’ वो एक दोस्त था अल्मास नहीं था ।।

नक़्श लायलपुरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment