Jaati Hui Ladki Ko Sada Dena Chahiye – Mohammad Alvi Ghazal

Mohammad Alvi Ghazal : Jaati Hui Ladki Ko Sada Dena Chahiye

Jaati hui ladki ko sadaa dena chahiye
ghar ho toh bura kya hai pata dena chahiye.!

Hothon ke gulaabon ko chura lene se pahle
baalon mein koi phool khila dena chahiye.!

Dar hai kahin kamre mein na ghus aaye ye manzar
khidki ko kahin aur hata dena chahiye.!

Par tol ke baithi hai magar udti nahin hai
tasveer se chidiya ko udaa dena chahiye.!

Sadiyon se kinaare pe khada sookh raha hai
is shahar ko dariya mein gira dena chahiye.!

Marne mein maza hai magar itna toh nahin hai
‘Alvi’ tumhen qaatil ko dua dena chahiye.!!

Mohammad Alvi

मोहम्मद अल्वी ग़ज़ल : जाती हुई लड़की को सदा देना चाहिए

जाती हुई लड़की को सदा देना चाहिए
घर हो तो बुरा क्या है पता देना चाहिए ।

होंटों के गुलाबों को चुरा लेने से पहले
बालों में कोई फूल खिला देना चाहिए ।

डर है कहीं कमरे में न घुस आए ये मंज़र
खिड़की को कहीं और हटा देना चाहिए ।

पर तोल के बैठी है मगर उड़ती नहीं है
तस्वीर से चिड़िया को उड़ा देना चाहिए ।

सदियों से किनारे पे खड़ा सूख रहा है
इस शहर को दरिया में गिरा देना चाहिए ।

मरने में मज़ा है मगर इतना तो नहीं है
‘अल्वी’ तुम्हें क़ातिल को दुआ देना चाहिए ।।

मोहम्मद अल्वी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment