Humari Jeet Hui Hai Ki Donon Haare Hain : Aslam Kolsari Ghazal

Aslam Kolsari — Humari Jeet Hui Hai Ki Donon Haare Hain

Humari jeet hui hai ki donon haare hain
bichhad ke hum ne kayi raat din guzaare hain.

Hanuz seene ki chhoti si qabr khaali hai
agarche is mein janaaze kayi utaare hain.

Woh koyle se mera naam likh chuka toh usey
suna hai dekhne walon ne phool maare hain.

Ye kis bala ki zabaan aasmaan ko chaat gayi
ki chaand hai na kahin kahkashan na taare hain.

Mujhe bhi ḳhud se adaawat hui toh zaahir hai
ki apne dost mujhe zindagi se pyaare hain.

Nahin ki arsa-e-girdaab hi ghanimat tha
magar yaqeen toh dilaao yahi kinaare hain.

Ghalat ki koi shareek-e-safar nahin ‘aslam’
sulagte aks hain jalte hue ishaare hain. !!

असलम कोलसरी ग़ज़ल : हमारी जीत हुई है कि दोनों हारे हैं

हमारी जीत हुई है कि दोनों हारे हैं
बिछड़ के हम ने कई रात दिन गुज़ारे हैं.

हनूज़ सीने की छोटी सी क़ब्र ख़ाली है
अगरचे इस में जनाज़े कई उतारे हैं.

वो कोएले से मिरा नाम लिख चुका तो उसे
सुना है देखने वालों ने फूल मारे हैं.

ये किस बला की ज़बाँ आसमाँ को चाट गई
कि चाँद है न कहीं कहकशाँ न तारे हैं.

मुझे भी ख़ुद से अदावत हुई तो ज़ाहिर है
कि अपने दोस्त मुझे ज़िंदगी से प्यारे हैं.

नहीं कि अर्सा-ए-गिर्दाब ही ग़नीमत था
मगर यक़ीं तो दिलाओ यही किनारे हैं.

ग़लत कि कोई शरीक-ए-सफ़र नहीं ‘असलम’
सुलगते अक्स हैं जलते हुए इशारे हैं. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

1 thought on “Humari Jeet Hui Hai Ki Donon Haare Hain : Aslam Kolsari Ghazal”

Leave a Comment