Har Qadam Par Nit-nae Sanche Mein Dhal Jate Hain Log – Himayat Ali Shayar Ghazal

Himayat Ali Shayar Ghazal – Har Qadam Par Nit-naye Sanche Mein Dhal Jaate Hain Log

Har qadam par nit-naye sanche mein dhal jaate hain log
dekhte hi dekhte kitne badal jaate hain log .!

Kis liye kije kisi gum-gashta jannat ki talash
jab ki mitti ke khilaunon se bahal jaate hain log .!

Kitne saada dil hain ab bhi sun ke aawaz-e-jaras
pesh o pas se be-khabar ghar se nikal jaate hain log .!

Apne saaye saaye sar-nahudae aahista khiram
jaane kis manzil ki jaanib aaj kal jaate hain log .!

Shama ke maanind ahl-e-anjuman se be-niyaz
aksar apni aag mein chup chaap jal jaate hain log .!

‘Shayar’ un ki dosti ka ab bhi dum bharte hain aap
thokaren kha kar toh sunte hain sambhal jaate hain log .!!

Himayat Ali Shayar

हर क़दम पर नित-नए साँचे में ढल जाते हैं लोग – हिमायत अली शाएर

हर क़दम पर नित-नए साँचे में ढल जाते हैं लोग
देखते ही देखते कितने बदल जाते हैं लोग ।

किस लिए कीजे किसी गुम-गश्ता जन्नत की तलाश
जब कि मिट्टी के खिलौनों से बहल जाते हैं लोग ।

कितने सादा दिल हैं अब भी सुन के आवाज़-ए-जरस
पेश ओ पस से बे-ख़बर घर से निकल जाते हैं लोग ।

अपने साए साए सर-नहुड़ाए आहिस्ता ख़िराम
जाने किस मंज़िल की जानिब आज कल जाते हैं लोग ।

शम्अ के मानिंद अहल-ए-अंजुमन से बे-नियाज़
अक्सर अपनी आग में चुप चाप जल जाते हैं लोग ।

‘शाइर’ उन की दोस्ती का अब भी दम भरते हैं आप
ठोकरें खा कर तो सुनते हैं सँभल जाते हैं लोग ।।

हिमायत अली शाएर

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment