Home / Adalat Poetry / Gali Ka Aam Sa Chehra Bhi Pyara Hone Lagta Hai – Ahmed Ataullah Ghazal

Gali Ka Aam Sa Chehra Bhi Pyara Hone Lagta Hai – Ahmed Ataullah Ghazal

Gali Ka Aam Sa Chehra Bhi Pyara Hone Lagta Hai – Ahmed Ataullah Ghazal
4.5 (90%) 6 vote[s]

Gali Ka Aam Sa Chehra Bhi Pyaara Hone Lagta Hai – Ghazal

Gali ka aam sa chehra bhi pyara hone lagta hai
mohabbat mein toh zarra bhi sitara hone lagta hai .!

Yahan gum-sum se logon par kabhi palken nahin utthin
ishara karne walon ko ishara hone lagta hai .!

Humari zindagi par hai humare ishq ka saaya
ki hum jo kaam karte hain khasara hone lagta hai .!

Mohabbat ki adalat bhi bhala kaisi adalat hai
ki jab bhi uthne lagte hain pukaara hone lagta hai .!

Zameen-o-aasmaan ke saare sahra raqs karte hain
kisi par ishq jab bhi ashkara hone lagta hai .!

‘Ata’ be-sabr logon ke kabhi bartan nahin bharte
guzaara karne walon ka guzaara hone lagta hai .!!

Ahmed Ataullah

गली का आम सा चेहरा भी प्यारा होने लगता है – अहमद अताउल्लाह ग़ज़ल

गली का आम सा चेहरा भी प्यारा होने लगता है
मोहब्बत में तो ज़र्रा भी सितारा होने लगता है ।

यहाँ गुम-सुम से लोगों पर कभी पलकें नहीं उट्ठीं
इशारा करने वालों को इशारा होने लगता है ।

हमारी ज़िंदगी पर है हमारे इश्क़ का साया
कि हम जो काम करते हैं ख़सारा होने लगता है ।

मोहब्बत की अदालत भी भला कैसी अदालत है
कि जब भी उठने लगते हैं पुकारा होने लगता है ।

ज़मीन ओ आसमाँ के सारे सहरा रक़्स करते हैं
किसी पर इश्क़ जब भी आश्कारा होने लगता है ।

‘अता’ बे-सब्र लोगों के कभी बर्तन नहीं भरते
गुज़ारा करने वालों का गुज़ारा होने लगता है ।।

अहमद अताउल्लाह

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Reply