Ek Mehmaan Ka Hijr Taari Hai – Fahmi Badayuni Ghazal

Fahmi Badayuni Ghazal : Ek Mehman Ka Hijr Taari Hai

Ek mehmaan ka hijr taari hai
mezbaani ki mashq jaari hai.!

Sirf halki si be-qaraari hai
aaj ki raat dil pe bhaari hai.!

Koi panchhi koi shikari hai
zinda rahne ki jung jaari hai.!

Bas tere ghum ki ghum-gusari hai
aur kya shayari humari hai.!

Aap karte hain shabnami baaten
aur meri pyaas reg-zaari hai.!

Ab kahan dasht mein junoon waale
jis ko dekho wahi shikari hai.!

Mere aansoo nahin hain lawaaris
ek tabassum se rishtedaari hai.!!

Fahmi Badayuni

फ़हमी बदायूनी ग़ज़ल : एक मेहमान का हिज्र तारी है

एक मेहमान का हिज्र तारी है
मेजबान की मश्क़ जारी है ।

सिर्फ हल्की सी बेक़रारी है
आज की रात दिल पे भारी है ।

कोई पंछी कोई शिकारी है
ज़िंदा रहने की जंग जारी है ।

बस तेरे ग़म की ग़म-गुसारी है
और क्या शायरी हमारी है ।

आप करते हैं शबनमी बातें
और मेरी प्यास रेग-ज़ारी है ।

अब कहाँ दश्त में जूनून वाले
जिस को देखो वही शिकारी है ।

मेरे आँसू नहीं हैं लावारिस
इक तबस्सुम से रिश्तेदारी है ।।

फहमी बदायुनी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment