Dekha Toh Koi Aur Tha Socha Toh Koi Aur – Ibrahim Ashk Ghazal

Ibrahim Ashk Ghazal : Dekha To Koi Aur Tha Socha To Koi Aur

Dekha toh koi aur tha socha toh koi aur
jab aa ke mila aur tha chaha toh koi aur .!

Us shakhs ke chehre mein kayi rang chhupe the
chup tha toh koi aur tha bola toh koi aur .!

Do-chaar qadam par hi badalte hue dekha
thahra toh koi aur tha guzra toh koi aur .!

Tum jaan ke bhi us ko na pahchaan sakoge
anjaane mein woh aur hai jaana toh koi aur .!

Uljhan mein hoon kho dun ki useu pa lun karun kya
khone pe woh kuchh aur hai paaya toh koi aur .!

Dushman bhi hai humraaz bhi anjaan bhi hai woh
kya ‘ashk’ ne samjha usey woh tha toh koi aur .!!

Ibrahim Ashk

इब्राहीम अश्क़ ग़ज़ल : देखा तो कोई और था सोचा तो कोई और

देखा तो कोई और था सोचा तो कोई और
जब आ के मिला और था चाहा तो कोई और ।

उस शख़्स के चेहरे में कई रंग छुपे थे
चुप था तो कोई और था बोला तो कोई और ।

दो-चार क़दम पर ही बदलते हुए देखा
ठहरा तो कोई और था गुज़रा तो कोई और ।

तुम जान के भी उस को न पहचान सकोगे
अनजाने में वो और है जाना तो कोई और ।

उलझन में हूँ खो दूँ कि उसे पा लूँ करूँ क्या
खोने पे वो कुछ और है पाया तो कोई और ।

दुश्मन भी है हमराज़ भी अंजान भी है वो
क्या ‘अश्क’ ने समझा उसे वो था तो कोई और ।।

इब्राहीम अश्क़

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment