Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai – Badar Munir Ghazal

Badar Munir Ghazal : Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yahi Kaafi Hai

Dekh lete ho mohabbat se yehi kaafi hai
dil dhadakta hai sahulat se yehi kaafi hai .!

Haal dunyia ke sataaye hue kuchh logon ka
poochh lete ho shararat se yehi kaafi hai .!

Jo bhi raste mein guzarta hai mere pehlu se
dekhta hai teri nisbat se yehi kaafi hai .!

Muddataton se nahin dekha tera jalwa lekin
yaad aa jaate ho shiddat se yehi kaafi hai .!

Saari duniya se ulajhte hain lekin tera kaha
maan jaate hain sharafat se yehi kaafi hai .!

Kya hua hum jo mayassar jo zar-o-maal nahin
kat rahi hai badi izzat se yehi kaafi hai .!

Aaj ke ahad taghaful mein kisi dar pe ‘munir’
koi aa jaaye zaroorat se yehi kaafi hai .!!

Badar Munir

बद्र मुनीर ग़ज़ल : देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है

देख लेते हो मोहब्बत से यही काफी है
दिल धड़कता हैं सहूलत से यही काफी है ।

हाल दुनिया के सताये हुए कुछ लोगों का
पूछ लेते हो शरारत से यही काफी है ।

जो भी रास्ते में गुज़रता हैं मेरे पहलू से
देखता हैं तेरी निस्बत से यही काफी है ।

मुद्दतों से नहीं देखा तेरा जलवा लेकिन
याद आ जाते हो शिद्दत से यही काफी है ।

सारी दुनिया से उलझते हैं लेकिन तेरा कहा
मान जाते हैं शराफत से यही काफी है ।

क्या हुआ जो मय्यस्सर ज़र-ओ-माल नहीं
कट रही हैं बड़ी इज़्ज़त से यही काफी है ।

आज के अहद तग़ाफ़ुल में किसी दर पे ‘मुनीर’
कोई आ जाए ज़रुरत से यही काफी है । ।

बद्र मुनीर

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment