Bikhre Bikhre Baal Aur Surat Khoi Khoi : Aslam Kolsari Ghazal

Aslam Kolsari — Bikhre Bikhre Baal Aur Soorat Khoi Khoi

Bikhre bikhre baal aur soorat khoi khoi
mann ghayal karti hain aankhen roi roi.

Malbe ke neeche se nikla maa ka laasha
aur maa ki godi mein bachchi soi soi.

Ek larazte pal mein banjar ho jaati hain
aankhon mein khwabon ki faslen boi boi.

Sard hawayen shahron shahron cheekhen laayen
marham marham khema khema loi loi.

Main toh pahle hi se baar liye phirta hoon
tann ke andar apni zindgi moi moi.

Jeevan ka sailaab umadta hi aata hai
lekin dhor hazaaron banda koi koi.

Raat aakash ne itne ashq bahaaye ‘aslam
saari hi dharti lagti hai dhoi dhoi. !!

असलम कोलसरी ग़ज़ल : बिखरे बिखरे बाल और सूरत खोई खोई

बिखरे बिखरे बाल और सूरत खोई खोई
मन घायल करती हैं आँखें रोई रोई.

मलबे के नीचे से निकला माँ का लाशा
और माँ की गोदी में बच्ची सोई सोई.

एक लरज़ते पल में बंजर हो जाती हैं
आँखों में ख़्वाबों की फ़सलें बोई बोई.

सर्द हवाएँ शहरों शहरों चीख़ें लाएँ
मरहम मरहम ख़ेमा ख़ेमा लोई लोई.

मैं तो पहले ही से बार लिए फिरता हूँ
तन के अंदर अपनी जिंदड़ी मोई मोई.

जीवन का सैलाब उमडता ही आता है
लेकिन ढोर हज़ारों बंदा कोई कोई.

रात आकाश ने इतने अश्क बहाए ‘असलम’
सारी ही धरती लगती है धोई धोई. !!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment