Beqarari Si Beqarari Hai – Jaun Eliya Ghazal

Jaun Eliya Ghazal : Beqarari Si Beqarari Hai

jaun eliya

Be-qarari si be-qarari hai
vasl hai aur firaaq taari hai .!

Jo guzaari na ja saki hum se
hum ne woh zindagi guzaari hai .!

Nighare kya hue ki logon par
apna saaya bhi ab toh bhaari hai .!

Bin tumhare kabhi nahin aayi
kya meri neend bhi tumhari hai .!

Aap mein kaise aaun main tujh bin
saans jo chal rahi hai aari hai .!

Us se kahiyo ki dil ki galiyon mein
raat din teri intezaari hai .!

Hijr ho ya visaal ho kuchh ho
hum hain aur us ki yaadgari hai .!

Ek mahak samt-e-dil se aayi thi
main ye samjha teri savaari hai .!

Haadson ka hisaab hai apna
warna har aan sab ki baari hai .!

Khush rahe tu ki zindagi apni
umar bhar ki umeed-vaari hai .!!

Jaun Eliya

जॉन एलिया ग़ज़ल : बेक़रारी सी बेक़रारी है

बेक़रारी सी बेक़रारी है
वस्ल है और फ़िराक़ तारी है ।

जो गुज़ारी न जा सकी हम से
हम ने वो ज़िंदगी गुज़ारी है ।

निघरे क्या हुए कि लोगों पर
अपना साया भी अब तो भारी है ।

बिन तुम्हारे कभी नहीं आई
क्या मेरी नींद भी तुम्हारी है ।

आप में कैसे आऊँ मैं तुझ बिन
साँस जो चल रही है आरी है ।

उस से कहियो कि दिल की गलियों में
रात दिन तेरी इन्तेज़ारी है ।

हिज्र हो या विसाल हो कुछ हो
हम हैं और उस की यादगारी है ।

एक महक सम्त-ए-दिल से आई थी
मैं ये समझा तेरी सवारी है ।

हादसों का हिसाब है अपना
वर्ना हर आन सब की बारी है

ख़ुश रहे तू कि ज़िंदगी अपनी
उम्र भर की उमीद-वारी है ।।

जॉन एलिया

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment