Bahar Bhi Ab Andar Jaisa Sannaata Hai – Aanis Moeen Ghazal

Bahar bhi ab andar jaisa sannaata hai,
dariya ke us paar bhi gehra sannaata hai.

Shor thame toh shayad sadiyaan beet chuki hain,
ab tak lekin sehma sehma sannaata hai.

Kis se bolun ye toh ek sehra hai jahaan par,
main hun ya phir goonga behra sannaata hai.

Jaise ek toofaan se pehle ki khamoshi,
aaj meri basti mein aisa sannaata hai.

Nayi sehar ki chaap na jaane kab ubhregi,
chaaron jaanib raat ka gehra sannaata hai.

Soch rahe ho socho lekin bol na padna,
dekh rahe ho shehar mein kitna sannaata hai.

Mehv-e-khwaab hain saari dekhne wali aankhen,
jaagne wala bas ek andha sannaata hai.

Darna hai toh anjaani aawaaz se darna,
ye toh ‘aanis’ dekha-bhaala sannaata hai. !!!


बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है – आनिस मुईन ग़ज़ल 

बाहर भी अब अंदर जैसा सन्नाटा है,
दरिया के उस पार भी गहरा सन्नाटा है .

शोर थमे तो शायद सदियाँ बीत चुकी हैं,
अब तक लेकिन सहमा सहमा सन्नाटा है .

किस से बोलूँ ये तो इक सहरा है जहाँ पर,
मैं हूँ या फिर गूँगा बहरा सन्नाटा है.

जैसे इक तूफ़ान से पहले की ख़ामोशी,
आज मिरी बस्ती में ऐसा सन्नाटा है.

नई सहर की चाप न जाने कब उभरेगी,
चारों जानिब रात का गहरा सन्नाटा है.

सोच रहे हो सोचो लेकिन बोल न पड़ना,
देख रहे हो शहर में कितना सन्नाटा है.

महव-ए ख़्वाब हैं सारी देखने वाली आँखें,
जागने वाला बस इक अंधा सन्नाटा है.

डरना है तो अनजानी आवाज़ से डरना,
ये तो ‘आनिस’ देखा-भाला सन्नाटा है .!!!

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

1 thought on “Bahar Bhi Ab Andar Jaisa Sannaata Hai – Aanis Moeen Ghazal”

Leave a Comment