Badar Munir Poetry / Shayari / Ghazals | बद्र मुनीर की शायरी

Badar Muneer Poetry / Ghazals Collection

badar munirDr. Badar Munir is a famous Pakistani Urdu, Pashto poet. Son of Maulvi Yaqoot Khan He was Born in Swat, Pakistan. Badar Munir wrote 06 books. Beesvee Sadi Shairee Adab (1988), Isharya Risala Ravi (1989), Mujhay Palkay Jhapaknay Do (2000) (Urdu, Ghazal) Deeda-i-Khushab (2003) Ruqaat-i-Abdul Haq (2004).

Read all Dr. Badar Munir’s  Poetry collection on Gulzariyat.com

बद्र मुनीर की शायरी संग्रह हिंदी में

बद्र मुनीर पाकिस्तान के एक प्रसिद्ध उर्दू शायर हैं जिनका जन्म मौलवी याक़ूत खान के यहाँ हुआ था। डॉक्टर बद्र मुनीर ने 6 किताबें लिखी हैं। बीसवीं सदी उर्दू आदाब (1988), इशार्य रिसाला रवि (1989), मुझे पलकें झपकने दो (2000), (उर्दू ग़ज़ल) दीदा-ए-खुशाब (2003), रुक़ात-ए-अब्दुल हक़ (2004)।

गुलज़ारियत डॉट कॉम पे आप बद्र मुनीर साहब की सभी शायरी / ग़ज़ल को हिंदी में पढ़ सकते हैं ।

SN: Ghazals of Badar Munir:
01. Dekh Lete Ho Mohabbat Se Yehi Kaafi Hai / Badar Munir