Ameer-e-Shahar Se Mil Kar Sazayen Milti Hain – Haseeb Soz Ghazal

Haseeb Soz Ghazal : Amir-e-Shahr Se Mil Kar Sazaen Milti Hain

Ameer-e-shahar se mil kar sazayen milti hain
is haspataal mein naqli davaayen milti hain .!

Hum ek party mil kar chalo banaate hain
ki teri meri bahut si khataayen milti hain .!

Purani dilli mein dil ka lagana theek nahin
na dhoop aur na taaza hawaayen milti hain .!

Ab un ka naam-o-nasab doosre bataate hain
urooj milte hi kya kya adaayen milti hain .!

Kisi ghareeb ki imdaad kar ke dekh kabhi
zara se kaam ki kitni duaayen milti hain .!!

Haseeb Soz

हसीब सोज़ ग़ज़ल : अमीर-ए-शहर से मिल कर सज़ाएँ मिलती हैं

अमीर-ए-शहर से मिल कर सज़ाएँ मिलती हैं
इस हस्पताल में नक़ली दवाएँ मिलती हैं ।

हम एक पार्टी मिल कर चलो बनाते हैं
कि तेरी मेरी बहुत सी ख़ताएँ मिलती हैं ।

पुरानी दिल्ली में दिल का लगाना ठीक नहीं
न धूप और न ताज़ा हवाएँ मिलती हैं ।

अब उन का नाम-ओ-नसब दूसरे बताते हैं
उरूज मिलते ही क्या क्या अदाएँ मिलती हैं ।

किसी ग़रीब की इमदाद कर के देख कभी
ज़रा से काम की कितनी दुआएँ मिलती हैं ।।

हसीब सोज़

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment