Akele Rahne Ki Khud Hi Saza Qubool Ki Hai – Shakeel Azmi Ghazal

Shakeel Azmi Ghazal : Akele Rahne Ki Khud Hi Saza Qubool Ki Hai

shakeel azmi on gulzariyat

Akele rahne ki khud hi saza qubool ki hai
ye hum ne ishq kiya hai ya koi bhool ki hai .!

Khyaal aaya hai ab rasta badal lenge
abhi talak toh bahut zindagi fuzool ki hai .!

Khuda kare ki ye paudha zameen ka ho jaaye
ki aarzoo mire aangan ko ek phool ki hai .!

Na jaane kaun sa lamha mere qaraar ka hai
na jaane kaun si saa’at tere husool ki hai .!

Na jaane kaun sa chehra meri kitaab ka hai
na jaane kaun si soorat tere nuzool ki hai .!

Jinhen khyaal ho aankhon ka laut jaayen woh
ab is ke baad hukumat safar mein dhool ki hai .!

Ye shohraten humen yunhi nahin mili hain ‘shakeel’
ghazal ne hum se bhi bahut vasool ki hai .!!

Shakeel Azmi

शकील आज़मी ग़ज़ल : अकेले रहने की ख़ुद ही सज़ा क़ुबूल की है

अकेले रहने की ख़ुद ही सज़ा क़ुबूल की है
ये हम ने इश्क़ किया है या कोई भूल की है ।

ख़याल आया है अब रास्ता बदल लेंगे
अभी तलक तो बहुत ज़िंदगी फ़ुज़ूल की है ।

ख़ुदा करे कि ये पौधा ज़मीं का हो जाए
कि आरज़ू मेरे आँगन को एक फूल की है ।

न जाने कौन सा लम्हा मेरे क़रार का है
न जाने कौन सी साअ’त तेरे हुसूल की है ।

न जाने कौन सा चेहरा मेरी किताब का है
न जाने कौन सी सूरत तेरे नुज़ूल की है ।

जिन्हें ख़याल हो आँखों का लौट जाएँ वो
अब इस के बाद हुकूमत सफ़र में धूल की है ।

ये शोहरतें हमें यूँही नहीं मिली हैं ‘शकील’
ग़ज़ल ने हम से भी बहुत वसूल की है ।।

शकील आज़मी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment