Ajeeb Shahar Ka Naqsha Dikhaai Deta Hai – Aasi Ramnagri Ghazal

Aasi Ramnagri Ghazal : Ajib Shahr Ka Naqsha Dikhai Deta Hai

Ajeeb shahar ka naqsha dikhaai deta hai
jidhar bhi dekho andhera dikhaai deta hai .!

Nazar nazar ki hai aur apne apne zarf ki baat
mujhe toh qatre mein dariya dikhaai deta hai .!

Bura kahe jise duniya bura nahin hota
meri nazar mein woh achchha dikhaai deta hai .!

Nahin fareb-e-nazar ye yahi haqeeqat hai
mujhe toh shahar bhi sahra dikhaai deta hai .!

Hain sirf kahne ko bijlee ke qumqume raushan
har ek samt andhera dikhaai deta hai .!

Ajeeb haal hai sailaab ban gaye sahra
jise bhi dekhiye pyaasa dikhaai deta hai .!!

Aasi Ramnagri

आसी रामनगरी ग़ज़ल : अजीब शहर का नक़्शा दिखाई देता है

अजीब शहर का नक़्शा दिखाई देता है
जिधर भी देखो अँधेरा दिखाई देता है ।

नज़र नज़र की है और अपने अपने ज़र्फ़ की बात
मुझे तो क़तरे में दरिया दिखाई देता है ।

बुरा कहे जिसे दुनिया बुरा नहीं होता
मेरी नज़र में वो अच्छा दिखाई देता है ।

नहीं फ़रेब-ए-नज़र ये यही हक़ीक़त है
मुझे तो शहर भी सहरा दिखाई देता है ।

हैं सिर्फ़ कहने को बिजली के क़ुमक़ुमे रौशन
हर एक सम्त अँधेरा दिखाई देता है ।

अजीब हाल है सैलाब बन गए सहरा
जिसे भी देखिए प्यासा दिखाई देता है ।।

आसी रामनगरी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment