Agar Chaman Ka Koi Dar Khula Bhi Mere Liye – Mohsin Zaidi Ghazal

Mohsin Zaidi Ghazal : Agar Chaman Ka Koi Dar Khula Bhi Mere Liye

Agar chaman ka koi dar khula bhi mere liye
sumoom ban gayi baad-e-saba bhi mere liye .!

Mera sukhan bhi hua us ke naam se mausoom
abas hua mera apna kaha bhi mere liye .!

Yahi nahin ki woh raste se mod kaat gaya
na chhoda us ne koi naqsh-e-pa bhi mere liye .!

Taalluqaat ka rakhna bhi todna bhi muhaal
azaab-e-jaan hai ye rasm-e-wafa bhi mere liye .!

Mujhe taweel safar ka mila tha hukum toh phir
kuchh aur hoti kushaada faza bhi mere liye .!

Mere liye jo hai zanjeer mera auj-e-nazar
kamand hai meri fikr-e-rasaa bhi mere liye .!

Dawaa hai mere liye jis ki khaak-e-pa ‘mohsin’
usi ka ism hai harf-e-duaa bhi mere liye .!!

Mohsin Zaidi

मोहसिन ज़ैदी ग़ज़ल : अगर चमन का कोई दर खुला भी मेरे लिए

अगर चमन का कोई दर खुला भी मेरे लिए
सुमूम बन गई बाद-ए-सबा भी मेरे लिए ।

मेरा सुख़न भी हुआ उस के नाम से मौसूम
अबस हुआ मेरा अपना कहा भी मेरे लिए ।

यही नहीं कि वो रस्ते से मोड़ काट गया
न छोड़ा उस ने कोई नक़्श-ए-पा भी मेरे लिए ।

ताल्लुक़ात का रखना भी तोड़ना भी मुहाल
अज़ाब-ए-जाँ है ये रस्म-ए-वफ़ा भी मेरे लिए ।

मुझे तवील सफ़र का मिला था हुक्म तो फिर
कुछ और होती कुशादा फ़ज़ा भी मेरे लिए ।

मेरे लिए जो है ज़ंजीर मेरा औज-ए-नज़र
कमंद है मिरी फ़िक्र-ए-रसा भी मेरे लिए ।

दवा है मेरे लिए जिस की ख़ाक-ए-पा ‘मोहसिन’
उसी का इस्म है हर्फ़-ए-दुआ भी मेरे लिए ।।

मोहसिन ज़ैदी

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment