Ab Dil Ki Taraf Dard Ki Yalgaar Bahut Hai – Fathat Ehsas Ghazal

Ab Dil Ki Taraf Dard Ki Yalghaar Bahut Hai

Ab dil ki taraf dard ki yalgaar bahut hai
duniya mere zakhmon ki talabgaar bahut hai .!

Ab toot raha hai meri hasti ka tasawwur
is waqt mujhe tujh se sarokaar bahut hai .!

Mitti ki ye deewar kahin toot na jaaye
roko ki mere khoon ki raftaar bahut hai .!

Har saans ukhad jaane ki koshish mein pareshaan
seene mein koi hai jo giraftaar bahut hai .!

Paani se ulajhte hue insaan ka ye shor
us par bhi hoga magar is paar bahut hai .!!

Farhat Ehsas

अब दिल की तरफ़ दर्द की यलग़ार बहुत है – फ़रहत एहसास ग़ज़ल

अब दिल की तरफ़ दर्द की यलग़ार बहुत है
दुनिया मेरे ज़ख़्मों की तलबगार बहुत है ।

अब टूट रहा है मिरी हस्ती का तसव्वुर
इस वक़्त मुझे तुझ से सरोकार बहुत है ।

मिट्टी की ये दीवार कहीं टूट न जाए
रोको कि मेरे ख़ून की रफ़्तार बहुत है ।

हर साँस उखड़ जाने की कोशिश में परेशाँ
सीने में कोई है जो गिरफ़्तार बहुत है ।

पानी से उलझते हुए इंसान का ये शोर
उस पार भी होगा मगर इस पार बहुत है ।।

फ़रहत एहसास

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment