Home / Urdu Ghazal / Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari To Dekho – Mazhar Imam Ghazal

Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari To Dekho – Mazhar Imam Ghazal

4.4
07

Ab Bhi Parde Hain Wahi Parda-dari Toh Dekho

Ab bhi parde hain wahi parda-dari toh dekho
aql ka daava-e-baaligh-nazari toh dekho .!

Sar patakte hain ki deevaar-e-khumistan dhaa den
hazrat-e-shaikh ki aashufta-sari toh dekho .!

Aaj har zakhm ke munh mein hai zabaan-e-fariyaad
mere iisa ki zara charagari toh dekho .!

Qaid-e-nazzara se jalwaon ko nikalne na diya
doston ki ye vasiay-un-nazari toh dekho .!

Un se pahle hi chale aaye janaab-e-naaseh
mere naalon ki zara zood-asari toh dekho .!

Hai taghaful ki tavajjoh nahin khulne paata
husn-e-maaasoom ki bedaad-gari toh dekho .!

Mujh se hi poochh raha hai meri manzil ka pata
mere rahbar ki zara raah-bari toh dekho .!

Un ko de aaye hain khud apni mohabbat ke khutoot
ghum-gusaaron ki zara naama-bari toh dekho .!

Donon hi raah mein takraate chale jaate hain
ishq aur aql ki ye hum-safri toh dekho .!

Jaavedan qurb ke lamhaat hue hain ‘mazhar’
taair-e-waqt ki be-baal-o-pari toh dekho .!!

Mazhar Imam

अब भी पर्दे हैं वही पर्दा-दरी तो देखो : मज़हर इमाम ग़ज़ल

अब भी पर्दे हैं वही पर्दा-दरी तो देखो
अक़्ल का दावा-ए-बालिग़-नज़री तो देखो ।

सर पटकते हैं कि दीवार-ए-ख़ुमिस्ताँ ढा दें
हज़रत-ए-शैख़ की आशुफ़्ता-सरी तो देखो ।

आज हर ज़ख़्म के मुँह में है ज़बान-ए-फ़रियाद
मेरे ईसा की ज़रा चारागरी तो देखो ।

क़ैद-ए-नज़्ज़ारा से जल्वों को निकलने न दिया
दोस्तों की ये वसीअ-उन-नज़री तो देखो ।

उन से पहले ही चले आए जनाब-ए-नासेह
मेरे नालों की ज़रा ज़ूद-असरी तो देखो ।

है तग़ाफ़ुल कि तवज्जोह नहीं खुलने पाता
हुस्न-ए-मासूम की बेदाद-गरी तो देखो ।

मुझ से ही पूछ रहा है मिरी मंज़िल का पता
मेरे रहबर की ज़रा राह-बरी तो देखो ।

उन को दे आए हैं ख़ुद अपनी मोहब्बत के ख़ुतूत
ग़म-गुसारों की ज़रा नामा-बरी तो देखो ।

दोनों ही राह में टकराते चले जाते हैं
इश्क़ और अक़्ल की ये हम-सफ़री तो देखो ।

जावेदाँ क़ुर्ब के लम्हात हुए हैं ‘मज़हर
ताइर-ए-वक़्त की बे-बाल-ओ-परी तो देखो ।।

मज़हर इमाम

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Reply