Aankhon Se Palkon Tak Jo Do Raste The – Pooja Bhatia Ghazal

Aankhon Se Palkon Tak Jo Do Raaste The

Aankhon se palkon tak jo do raste the
un raston mein kitne dariya padte the .!

Aur is se bhi rasta thoda aasaan hua
khwaab mein hum ne saare jangle dekhe the .!

Ghoom raha tha ek majnun bin wahshat ke
saare sahra mein us ke hi charche the .!

Waqt tha us ki rukhsat ka aur let the main
gaadi ke saare dabbe bhi ek se the .!

Ek mukammal manzar tha us manzar mein
woh tha aur do-chaar parinde baithe the .!!

Pooja Bhatia

आँखों से पलकों तक जो दो रस्ते थे – पूजा भाटिया ग़ज़ल

आँखों से पलकों तक जो दो रस्ते थे
उन रस्तों में कितने दरिया पड़ते थे ।

और इस से भी रस्ता थोड़ा आसान हुआ
ख़्वाब में हम ने सारे जंगले देखे थे ।

घूम रहा था एक मजनूँ बिन वहशत के
सारे सहरा में उस के ही चर्चे थे ।

वक़्त था उस की रुख़्सत का और लेट थे मैं
गाड़ी के सारे डब्बे भी एक से थे ।

एक मुकम्मल मंज़र था उस मंज़र में
वो था और दो-चार परिंदे बैठे थे ।।

पूजा भाटिया

Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Facebook
Facebook
0
Share the Shayari...

Share your thoughts- Lets talk!

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

Leave a Comment